मध्य प्रदेश भोपाल में रह रहे पाकिस्तानी किशोर रमजान की नए साल के शुरुआत में भी घर वापस जाने की कोई उम्मीद नहीं नजर आ रही है. जिस वजह से अब रमजाम डिप्रेशन में चला गया है.

अम्मी के साथ नहीं मना पाया नया साल, डिप्रेशन में गया रमजान

जानकारी के मुताबिक, राजधानी के एनजीओ आरंभ के उम्मीद होम शेल्टर में रह रहे रमजान ने अपने साथियों से बातचीत करना बंद कर दिया है. यहां तक कि नए साल की भी उसे कोई खुशी नहीं है.

अब पाकिस्तान से अपनी मां से फोन पर बात करने के दौरान भी वो ज्यादा नहीं बोलता और बस हां या ना में जवाब देता है. जिस वजह से शेल्टर होम के सभी लोग चिंतित हैं.

जब गीता दीदी घर वापस आ सकती हैं तो मैं क्यों नहीं

एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक इस मामले में रमजान का कहना है कि, मैंने वापस जाने के लिए अपने बैग पैक कर लिए थे. जब भी मैं पूछता कि मैं अपनी अम्मी के पास कब वापस जा रहा हूं तो कोई जवाब नहीं देता. मैंने सोचा था कि मैं अपना नया साल अपनी मां के साथ मनाऊंगा लेकिन शायद ये संभव नहीं.

रमजान का ये भी कहना है कि, सुषमा स्वराज और पाकिस्तानी वीजा अधिकारी खादिम हुसैन की मुलाकात भी हो गई लेकिन मैं अब तक घर नहीं जा पाया. जब गीता दीदी अपने वतन वापस आ सकती हैं तो मैं वापस पाकिस्तान क्यों नहीं जा सकता.

पाकिस्तान की ओर से देरी

गीता की घर वापसी में अहम कड़ी बने पाकिस्तान के सोशल एक्टिविस्ट अंसार बर्नी ने काफी समय पहले ही रमजान के वतन वापसी के लिए प्रयास शुरू कर दिए थे. बर्नी की मानें तो दिक्कत पाकिस्तान की ओर से आ रही है.

उन्होंने पाकिस्तान के राष्ट्रपति से लेकर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ तक को इस बारे में पत्र लिखकर रमजान की घर वापसी की बता लिखी. उन्होंने पत्र में लिखा कि गीता की मौजूदगी के बारे में पता चलते ही भारत ने उसकी वापसी के लिए प्रयास शुरू कर दिए थे वो भी तब जब उन्हें ये तक नहीं पता था कि गीता के परिजन या उसका घर कहां है.

इसके ठीक उलट रमजान की अम्मी और उसके पाकिस्तानी होने के कागजात और पूरे सबूत होने पर भी वो अभी तक वतन वापस नहीं आ पाया है. इससे पूरी दुनिया के सामने पाकिस्तान को शर्मिंदा होना पड़ रहा है. उम्मीद है कि जल्द ही पाकिस्तान भी रमजान को वापस लाने के लिए कवायद शुरू करेगा. साभार: news18.com


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE