जयपुर  चित्तौड़गढ़ स्थित मेवाड़ यूनिवर्सिटी के कैंपस में कश्मीरी छात्रों द्वारा बीफ पकाए जाने की अफवाह फैलाने वाले स्थानीय छात्र के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। यह छात्र उस सोशल मीडिया ग्रुप का ऐडमिन था, जिसमें इस बात की अफवाह फैलाई गई थी कि चार कश्मीरी छात्रों ने हॉस्टल के कमरे में बीफ पकाया। इस अफवाह के बाद चार छात्रों- शकीब अफरफ, हिलाल फारुख, मोहम्मद मकबूल और शौकत अली की कुछ उपद्रवियों ने पिटाई कर दी थी, इसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन बाद में यह पता चलने के बाद कि उन्होंने हॉस्टल में बकरे का मीट बनाया था, उन्हें छोड़ दिया गया।

 मेवाड़ विश्वविद्यालय बीफ विवाद: जांच के बाद कश्मीरी छात्र र...

चित्तौड़गढ़ के पशु पालन विभाग ने अपनी जांच के बाद कहा कि छात्रों ने हॉस्टल में मटन बनाया था न कि बीफ। हालांकि इस निजी यूनिवर्सिटी में मांसाहार पर पूरी तरह से प्रतिबंध है। बुधवार को उन्हें एक स्थानीय अदालत ने जमानत पर रिहा करते हुए कहा था कि इन छात्रों पर छह महीने तक निगरानी की जरूरत है।

चित्तौड़गढ़ के एसपी पीके खमेसरा ने कहा, ‘गौरव नाम का एक छात्र उस ग्रुप का ऐडमिन है, जिसमें बीफ पकाए जाने की अफवाह फैलाई गई थी। हमने छात्र के खिलाफ सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट के समक्ष कानूनी शिकायत दर्ज कराई है और दो धार्मिक समुदायों के बीच वैमनस्यता फैलाने के आरोप में कार्रवाई की जाए।’ हालांकि इलाके में अब शांति का माहौल है। श्रीनगर के रैनावाड़ी इलाके के अशरफ ने यूनिवर्सिटी प्रशासन से मांसाहार न पकाने के नियम को तोड़ने को लेकर माफी मांगी है।

जम्मू-कश्मीर रखेगी कश्मीरी छात्रों का ख्याल

मेवाड़ यूनिवर्सिटी में बीफ पकाए जाने की अफवाह के बाद कथित तौर पर कश्मीरी छात्रों के उत्पीड़न की खबरों के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बड़ा कदम उठाया है। राज्य पुलिस ने एक कंट्रोल रूम स्थापित किया है, जिसके जरिए देश भर में कश्मीरी छात्रों के उत्पीड़न पर नजर रखी जाएगी। जम्मू-कश्मीर पुलिस डीजीपी के. राजेंद्र कुमार ने कहा, ‘मैंने यह मुद्दा राजस्थान के डीजीपी से उठाया है। उन्होंने आश्वस्त किया है कि किसी भी कश्मीरी छात्र को प्रताड़ित नहीं किया जाएगा।’ (NBT)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें