फैज़ाबाद! 21 वे रमज़ान को रेलवे स्टेशन फैज़ाबाद मस्जिद पर रोज़ा अफ्तार का प्रोग्राम किया गया. इस रोज़ा अफ्तार प्रोग्राम को मस्जिद कमिटी की ओर से हर साल की तरह से इस साल भी किया गया. इस अफ्तार में काफी तादाद में हिन्दू-मुसलमान भाई शामिल सैकड़ों की संख्या में शामिल हुए.

मस्जिद कमेटी के सदर मो. हलिम ने अफ्तार के बाद चर्चा करते हुए कहा कि इस अफ्तार को करने का मकसद है कि समाज से सभी लोग एक ऐसे साझे स्पेस में बैठकर रोज़ा अफ्तार करे और आपसी भाईचारे को मजबूत किया जाये. जिसकी आज बहुत सारी गलत फैमियों के चलते चंद लोग अपने व्यक्तिगत फायदे के लिए मासरे को बिगड़ने और नफरत फ़ैलाने का काम कर रहे है. ऐसे वक़्त में जितना ज्यादा साझे स्पेस बनाने की कोशिश हो वो उतना ही बेहतर है.

और पढ़े -   इस्लाम अपनाने पर हुई थी फैजल उर्फ अनिल की हत्या, अब पिता ने भी अपनाया इस्लाम

मस्जिद कमेटी के सेक्रेटरी ज़बीह उल्लाह लश्करी ने कहा कि बुराइयों से रोकता है रोज़ा, आपसी सहयोग और साझे कामों को करने के लिए रोज़े का महिना बहुत मुफीद है. हमने इस अफ्तार को इसलिए लगातार किया है कि इसमें कई मोहल्लों और सम्प्रदाय के लोग शामिल होते है. जो सभी के लिए ख़ुशी और प्यार का पैगाम है. अफ्तार के बाद सभी रोज़ेदरों को हाफिज़ जहूर साहब ने नमाज़ अदा कराई.

और पढ़े -   ख्वाजा के दर से हुई मन्नत पूरी, 1000 किलोग्राम चांदी से सज रहा सुल्तान-ए-हिन्द का दरबार

इस प्रोग्राम में मस्जिद कमेटी के नायब सदर मो. सोहराब, एड. मंसूर इलाही, कैसर अंसारी, नानक चंद गुप्ता, मो. नफ़ीस, मो. रफ़ीक खान, इस्तियाक अहमद, आशीष कुमार, दीपक कुमार, मो. रफ़ीक, मो. अली, मो. आरिफ़, मो. रशीद, आदि लोगों ने शिरकत की.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE