अजमेर 804वें उर्स के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से रविवार को ख्वाजा साहब की दरगाह में चादर और अकीदत के फूल पेश किए गए। प्रधानमंत्री मोदी ने जायरीन के नाम ख्वाजा साहब के प्रेम और भाईचारे के संदेश को अपनाने का संदेश दिया है।

केन्द्रीय संसदीय कार्य एवं अल्पसंख्यक मामलात राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चादर लेकर अजमेर पहुंचे। अजमेर में राजस्थान धरोहर संरक्षण प्रोन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत और शहर भाजपा अध्यक्ष अरविंद यादव सहित अन्य भाजपाइयों के साथ नकवी चादर पेश करने दरगाह पहुंचे।

जन्नती दरवाजे से आस्ताना शरीफ में प्रवेश कर उन्होंने मजार शरीफ पर प्रधानमंत्री मोदी की ओर से भेजी गई चादर और अकीदत के फूल पेश किए। उन्होंने देश की तरक्की, देश में अमन चैन और अवाम की खुशहाली के लिए दुआ भी की। खादिम सैयद अब्दुल बारी चिश्ती ने उन्हें जियारत कराई और दस्तारबंदी कर तबर्रुक भेंट किया। दरगाह के बुलंद दरवाजे पर दरगाह कमेटी की ओर से भी नकवी का स्वागत कर दस्तारबंदी की गई। नकवी ने बुलंद दरवाजे से ही प्रधानमंत्री मोदी का जायरीन के नाम संदेश पढ़कर सुनाया।

इस अवसर पर अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष शिवशंकर हेड़ा, यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष धर्मेश जैन, भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अमीन पठान, सैयद इब्राहिम फकर आदि मौजूद थे।

धक्कामुक्की के बीच हुई जियारत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की चादर पेश करने आए केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलात राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी को धक्का मुक्की के बीच जियारत करनी पड़ी। जायरीन, भाजपा कार्यकर्ताओं और खादिमों की भीड़ के चलते धक्का मुक्की से वे कुछ परेशान भी हुए। राजस्थान धरोहर संरक्षण प्रोन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत ने धक्का मुक्की होने पर पुलिस अधिकारियों के सामने नाराजगी भी जाहिर की। लखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री की चादर के म²ेनजर भीड़ को नियंत्रित करने की व्यवस्था करनी चाहिए थी। उन्होंने वहां मौजूद खादिम से भी नाराजगी जाहिर की। खादिमों का तर्क था कि मीडिया और भाजपा कार्यकर्ताओं की भीड़ के कारण धक्का मुक्की हुई है। (राजस्थान पत्रिका)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें