राजस्थान के अलवर शहर में विभिन्न स्थानों पर देश द्रोहियों से सावधान रहने और उन्हें जिन्दा या मुर्दा पकड़ने वालों को 10 हजार रुपए इनाम देने वालों के 10 हजार रुपए इनाम देने की बात कही गई है।

राजस्थान के अलवर शहर में विभिन्न स्थानों पर देश द्रोहियों से सावधान रहने और उन्हें जिन्दा या मुर्दा पकड़ने वालों को 10 हजार रुपए इनाम देने वालों के 10 हजार रुपए इनाम देने की बात कही गई है। बता दें कि शहर के कुछ लोगों ने इस तरह की बातें विभिन्न स्थानों में पोस्टर चिपकाकर बयां की है। इन पोस्टरों में जेएनयू के छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद, भट्टाचार्य और ओवैसी को देशद्रोही बताया है और उन्हें पकड़ने पर इनामी राशि घोषित की गई है। पोस्टर्स के निवेदक में समस्त देशभक्त का नाम लिखा गया है।

पोस्टरों में इन चारों की फोटो लगाकर उन्हें देशद्रोही बताया गया है और लिखा है देशद्रोहियों की जमानत खारिज करो, इनको फांसी देकर गोली मारो और जो आदमी देश विरोधी बातें करेगा उसकी जुबान काटो।

इतना ही नहीं कुछ पोस्टर्स में कॉमरेडों और पाकिस्तान का झंडा जलाओ और तिरंगा लहराओ के स्लोगन भी लिखे हुए हैं। पोस्टरों में लाल गुलामी छोड़ों वंदे मातरम् बोलो और भारत में रहना होगा तो वंदे मातरम् कहना होगा और देश विरोधियों को देश से निकालने की बातें कहीं गई हैं।

इस तरह के पोस्टर कॉलेजों के बहार लगे होने को छात्रों ने गलत बताया है। छात्रों का कहना है कि लोग पोस्टरों के जरिए वैमनस्यता फैला रहे हैं। शिक्षा के मंदिरों में इस तरह के पोस्टर नहीं लगाये जाने चाहिए। देश द्रोह करने वालों को कानून सजा देगा। किसी को भी इस तरह के पोस्टर नहीं लगाने चाहिए। पुलिस अधिकारी का कहना है कि पोस्टर लगाने वाले जागरुक नहीं हैं, लिहाजा अब तक इस मामले को लेकर जांच जारी है। ऐसे में अब देखना यह होगा कि इन पोस्टर्स के इन कन्हैया, उमर खालिद, भट्टाचार्य और ओवैसी की इस मामले पर क्या प्रतिक्रिया आती है। (Jansatta)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें