मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में वीर सावरकर सेतु के लोकार्पण से ठीक पहले राजनीतिक जंग शुरू हो गई है. कांग्रेस ने सावरकर को महात्मा गांधी की हत्या का आरोपी बताया है, तो वहीं भाजपा ने पलटवार में कांग्रेस को देशद्रोही पार्टी करार दिया है.

ब्रिज का नाम वीर सावरकर रखने पर कांग्रेस-भाजपा में छिड़ी जंग

दरअसल, भोपाल में बहुप्रतिक्षित हबीबगंज रेल्वे ओवर ब्रिज का नामकरण वीर सावरकर के नाम पर किया गया है. जिसका मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को लोकार्पण कर जनता को समर्पित करेंगे.

और पढ़े -   देहरादून: मिशन 2019 से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी का सूपड़ा साफ

वहीं, इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने वीर सावरकर को महात्मा गांधी का हत्यारा बताकर ब्रिज के नामकरण का विरोध किया है. कांग्रेस ने इसे आरएसएस का एजेंडा बताया है. इसके जबाव में भाजपा प्रवक्ता हितेश वाजपेयी ने कहा है कि कांग्रेस देशद्रोही पार्टी है. हमें शहीदों का अपमान मंजूर नहीं है.

होर्डिंग्स वार

राजधानी में सावरकर सेतु के लोकार्पण के ठीक पहले होर्डिंग्स वार शुरू हो गया है. कांग्रेस ने फ्लाई ओवर के निर्माण के लिए तत्कालीन यूपीए सरकार का आभार जताया है. इसका पलटवार में भाजपा ने भी होर्डिंग्स लगाकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को धन्यवाद दिया है.

और पढ़े -   यूपी: बीजेपी नेता ने किया शहीदों का अपमान, जूते पहने शहीद चौक में आए नजर

84 करोड़ की लागत

बीआरटीएस कॉरीडोर में आवागमन सुविधा के दृष्टिगत हबीबगंज क्षेत्र में लगभग 84 करोड़ रुपए की लागत से रेलवे ओवर ब्रिज का निर्माण कराया गया है. आरएलएल तिराहे से हबीबगंज रेल्वे फाटक के सामने गणेश मंदिर मुख्य सेतु तथा एम्स व अरेरा कालोनी स्थित फ्रेक्चर हॉस्पिटल की तरफ सेतु के दो आर्म भी निर्मित कराए गए हैं. सेतु की कुल लंबाई 1550 मीटर है. इसका निर्माण 43 स्पॉन, 146 बेरिंग, 46 टीयर्स के माध्यम से किया गया है. वहीं, वीर सावरकर सेतु पर 111 लाइट के खंभे लगाकर आकर्षक प्रकाश की व्यवस्था की गई है. (hindi.pradesh18.com)

और पढ़े -   मध्यप्रदेश: शिवराज के मंत्री ने किया स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रध्वज का अपमान

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE