हाल ही में सोशल मीडिया पर धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करने के कारण पूरा पश्चिम बंगाल हिंसा की आग में झुलस गया. वहीँ हरियाणा के मेवात में बुद्धिजीवियों की समझदारी ने इस तरह की घटना होने से रोक लिया.

दरअसल, कस्बा नगीना में इस्लाम धर्म के पैगंबर साहब तस्वीरें बनाकर उनपर अभद्र टिप्पणी की थी. जिसके चलते दो समुदायों में तनाव पैदा हो गया. लेकिन इसी बीच सर्वधर्म महापंचाय बैठी. जिसने अपनी सुझबुझ से इस तनाव को हमेशा के लिए खत्म कर दिया.

और पढ़े -   बीजेपी महिला नेता ने मुस्लिम लड़के के साथ दिखने पर हिन्दू लड़की को पीटा

बुधवार दोपहर को चौधरी चौपाल पर सरपंच और प्रमुख लोगों ने सर्वधर्म समाज की बैठक बुलाकर आरोपी के खिलाफ कारवाई शुरू की. आरोपी द्वारा अपना अपराध कबूल करने पर उसे 11 जूते लगाने, 21 हजार रुपये का जुर्माना और तीन महीने के लिए कस्बा छोड़ने की सज़ा दी गई.

महापंचायत में 36 बिरादरी के लोगों ने कहा कि युवक के फेसबुक पोस्ट से मेवात के भाईचारे को गहरा झटका लगा है. सभी समाजों से जुड़े लोगों की बात सुनने के बाद 21 सदस्यीय सर्वधर्म कमेटी के अध्यक्ष सुभाष गुप्ता ने फैसला सुनाया. इसके बाद महापंचायत में युवक को एक बुजुर्ग ने 11 जूते लगाए. वहीं 21 हजार रुपये आरोपी के परिवार ने जमा किए, जो मंदिर के लिए दान कर दिए गए. वहीं शाम तक युवक को कस्‍बा छोड़ने की हिदायत दी गई.

और पढ़े -   बड़ा खुलासा - बीजेपी नेता करता था अधिकारियों को स्कूली छात्राओं की सप्लाई

सरपंच की शांति की अपील

नगीना के सरपंच नसीम खान ने सभी लोगो से कस्बे में शांति बनाए रखने की अपील की. सभी ने इसका समर्थन किया. बता दें कि इस बैठक में असमत खान, नसीम अहमद, महावीर जैन, जाकिर हुसैन, शिवकुमार बंटी, महावीर सैनी, टिल्लू प्रजापति, रघुवीर राघव, उमर मोहम्मद, प्यारे लाल, मुन्नत नम्बरदार, मानक सैनी, मानसिंह गंगाराम सैनी और प्रभुदयाल पंच आदि मौजूद थे.

और पढ़े -   देशभक्ति के झूठे प्रमाण-पत्र बांट कर देशभक्ति की व्याख्या बदलने की कोशिश: तुषार गांधी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE