नीतीश कैबिनेट में शनिवार को 26 मंत्री शामिल किए गए, इसमें सबसे ज्यादा अपर कास्ट यानी सवर्णो को जगह दी गई. तो वहीँ सबसे कम प्रतिनिधित्व मुस्लिमों को मिला. केवल एक ही मुस्लिम विधायक को मंत्री पद दिया गया.

मुख्यमंत्री ने तीन यादव नेताओं को मंत्री बनाया है, जबकि पांच दलित, दो कोइरी, नौ सवर्ण (भूमिहार, ब्राह्मण और राजपूत), छह अतिपिछड़ा, एक बनिया, एक कुर्मी (स्वजातीय) और एक मुस्लिम चेहरे को मंत्रिमंडल में जगह दी है. मुस्लिम चेहरे के रूप में केबिनेट में जगह पाने वाले विधायक खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद है.

और पढ़े -   बच्चों की मौतों पर योगी सरकार से हाईकोर्ट ने मांगा जवाब

याद रहे शुक्रवार को विश्वास मत के बाद विधायक खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने कहा था कि अगर विकास के लिए जय श्रीराम का नाम लगाना पड़े तो मैं ये नारा लगाने को तैयार हूं. याद रहे महागठबंधन सरकार में जदयू कोटे से गन्ना मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद कल तक भाजपा पर कोई भी वार करने से पीछे नहीं रहते थे.

और पढ़े -   भैंस ले जा रहे दो मुस्लिम युवकों की अवैध वसूली का विरोध करने पर पिटाई

जदयू विधायक खुर्शीद ने विधानसभा पोर्टिको में मीडिया के कैमरे के सामने भी जय श्रीराम के नारे भी लगाए थे. उन्होंने पत्रकारों को हाथ में बंधा रक्षासूत्र भी दिखाते हुए कहा था कि इस्लाम में नफरत की जगह नहीं है. इस्लाम की बुनियाद मोहब्बत है. मैं राम के साथ रहीम को भी पूजता हूं. मैं हिन्दुस्तान के सभी धर्मस्थलों पर मत्था टेकता हूं.

और पढ़े -   यूपी में पांच दिनों में दूसरा बड़ा रेल हादसा, डंपर से टकराई कैफियत एक्सप्रेस

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE