मुरथल गैंगरेप मामले में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं. दो चश्‍मदीदों के सामने आने के बाद अब ये खुलासा हुआ है कि कई लड़कियों का रेप होने से बचाने के लिए पानी की टंकियों में छुपाया गया था.

Jat_Quota_stirshocking

शिमला की रहने वाला तारा देवी ने नवभारत टाइम्‍स को बताया है कि जाट आंदोलन के दौरान वो भी मुरथल में फंस गई थी. इस दौरान वहां उन्‍हें ढाबे के मालिक और कर्मचारियों ने बताया कि कई लड़कियों को उपद्रवियों से बचाने के लिए पानी की टंकियों में डाल दिया था. इसके बावजूद कई लड़कियों का गैंगरेप हुआ.

वहीं एक चश्मदीद ट्रक ड्राइवर के अनुसार, 22 फरवरी को उसके सामने औरतों और लड़कियों को खेतों में ले जाकर गलत काम को अंजाम दिया गया.

रास्ता बताने के बहाने महिलाओं और औरतों को खेतों में ले जाकर उनके साथ बदसलूकी की गई. उपद्रवियों ने चश्मदीद ट्रक ड्राइवर की गाड़ी को भी जला दिया. चश्मदीद ट्रक ड्राइवर की माने तो उपद्रवी अभी भी सरेआम घूम रहे हैं.

वहीं, दूसरे ट्रक ड्राइवर के अनुसार दोपहर में हुई आगजनी के बीच उसने बदहवास महिलाओं को भागते हुआ देखा. महिलाओं के कपड़े फटे हुए थे और उनसे छेड़छाड़ भी हुई थी.

इस मामले पर डीआईजी राजश्री ने कहा कि जिम्मेदार नागरिक के नाते प्रत्यक्षदर्शी सामने आए, हमारी टीम से मिले और घटना की जानकारी दें.

दिलचस्‍प बात यह है कि अभी तक पुलिस ने इस घटना के बारे में किसी भी तरह से जानकारी होने से इनकार किया है. शुक्रवार को हरियाणा के डीजीपी ने प्रेस क्रांफ्रेस कर कहा था कि अगर मुरथल में हुए कथित रेपकांड की बारे में किसी के पास कोई भी जानकारी हो तो पुलिस को जरूर बताएं.

इसके लिए पुलिस ने एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है. लेकिन अभी तक इस बारे में पुलिस के पास कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई है. (pradesh18)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें