नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार को आड़े हाथों लेते हुए नोटबंदी को संगठित लूट और कानूनी डाका करार दिया. उन्होंने दावा किया कि नोटबंदी से भारत को नहीं बल्कि चीन को फायदा पहुंचा है.

अहमदबाद में व्यवसायियों और कारोबारियों को संबोधित करते हुए मनमोहन ने कहा कि नोटबंदी का कोई लक्ष्य हासिल नहीं हो सका. उन्होंने कहा कि 8 नवंबर भारत के लोकतंत्र के इतिहास का काला दिन है. दुनिया में किसी भी देश ने ऐसा फैसला नहीं लिया जिसमें 86 फीसदी करेंसी को एक साथ वापस ले लिया हो.

उन्होंने कहा कि नोटबंदी की वजह से भारतीयों ने चीन से ज्यादा आयात किया है. उन्होंने बताया कि 2016-17 की पहली तिमाही में भारत ने 1.96 लाख करोड़ रुपए का आयात किया था, जो कि 2017-18 में 2.41 लाख करोड़ रुपए हो गया. ऐसे में जीएसटी और नोटबंदी से चीन को फायदा हुआ.

इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार की मदाबाद-मुंबई बुलेट रेल परियोजना की भी आलोचना की और कहा कि यह एक दिखावा है.  मनमोहन सिंह ने कहा कि पिछले एक साल में सबसे ज्यादा मौतें रेल हादसे में हुई हैं. उन्होंने कहा, ‘बड़ी धूमधाम से शुरु की गई बुलेट ट्रेन परियोजना अहंकार की कवायद है.

पूर्व पीएम ने सवाल उठाते हुए कहा कि क्या प्रधानमंत्री नें ब्रॉड गेज रेलवे को अपग्रेड करके हाईस्पीड ट्रेन के विकल्पों के बारे में सोचा है?’ उन्होंने पूछा क्या बुलेट ट्रेन पर सवाल करने वाले इसके विरोधी बन जाते है?


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE