mil

नोटबंदी के कारण देश भर की जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा हैं. सूरत में किसानों ने पुराने नोट बदलवाने के लिए जमकर विरोध प्रदर्शन किया. किसानों ने नोटबंदी के बाद नकदी के अभाव से आ रही परेशनियों के विरोध में किसानों ने एक रैली निकाली और खेती में पैदावार होने वाली फसल एवं दूध कलेक्टर को ऑफिस के बाहर फेंक दिया.

और पढ़े -   भगवा चोले में सामने आया हवस का पुजारी, स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी पर यौन शोषण का मामला दर्ज

किसानों का विरोध केंद्र सरकार और आरबीआई के उस फैसले के खिलाफ था जिसमे कॉपरेटिव बैंकों में नोट को बदलने पर रोक लगी हुई हैं. इस बारें में किसान नेता जयेश पटेल का कहना है कि डिस्ट्रिक कॉपरेटिव बैंकों में किसानों के खाते हैं और उन्हीं खातों में सरकार ने नोट बदलने पर रोक लगा रखी है, जिससे किसानों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

और पढ़े -   बीजेपी की और से मेरे पिता भी हो प्रत्याशी तो भी वोट मत देना: हार्दिक पटेल

उन्होंने आगे कहा, अगर सरकार ने आगामी 7 दिन के भीतर किसानो के हित में निर्णय नहीं लिया तो उसके बाद दिल्ली और मुंबई के लोगों को दूध सप्लाई करने वाली अमूल कंपनी को दूध देना बंद कर देंगे. किसानों ने कलेक्टर ऑफिस पहुँच कर धान से भरे बोरे,गन्ने और दूध को विरोध में बिखेरना शुरू कर दिया.

किसान नेता जयेश पटेल ने कलेक्टर को सौंपे ज्ञापन में किसानों की मांग बताते हुए कहा कि अगर सरकार ने आगामी 7 दिन के भीतर किसानो के हित में निर्णय नहीं लिया तो उसके बाद दिल्ली और मुंबई के लोगों को दूध सप्लाई करने वाली अमूल कंपनी को दूध देना बंद कर देंगे.

और पढ़े -   देशभक्ति के झूठे प्रमाण-पत्र बांट कर देशभक्ति की व्याख्या बदलने की कोशिश: तुषार गांधी

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE