आरएसएस  विचारक राकेश सिन्हा के खिलाफ पश्चिम बंगाल पुलिस ने शांति भंग करने और दंगा भड​काने के आरोप में एफआईआर दर्ज कर गैर जमानती वारंट जारी किया है.

सिन्हा के खिलाफ दंगा भडकाने, लोगों की भावनाओं को आहत करने और भविष्य में उनके बयानों के जरिए दंगा भडकने की आशंका  को लेकर धारा 153 ए1 (ए)(बी), 505(1)(बी),295ए,120बी के तहत मामला दर्ज किया गया है. इन धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया. उनके खिलाफ कलकत्ता के सेक्शपीयर सरानी थाने में 12 जुलाई को ये मामला दर्ज किया गया.

और पढ़े -   दलित का हैंडपंप छूना हुआ पाप, दबंगों ने कुल्हाड़ी से वार कर किया घायल

एफआईआर के अनुसार, सिन्हा ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर भडकाऊ फोटो और स्टेटस डाले. जिससे की पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था बिगड़ गई. हालांकि सिन्हा का कहना है कि उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया है. सिन्हा का कहना है कि वे लंबे समय से इधर पश्चिम बंगाल गए भी नहीं है.

उन्होंने बताया कि मेरे टवीटर और फसेबूक पेज पर दंगा भडकाने वाले बातों के लिखे जाने का एफआईआर में वर्णन है. जबकि मैंने अपने सोशल मीडिया साईट पर कोई विवादित फोटो नहीं डाली है.

और पढ़े -   आखिर संघ की मदद से महाराणा प्रताप ने मुग़ल बादशाह अकबर को हरा ही दिया

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE