गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 60 से ज्यादा बच्चों की मौत के मामले में गिरफ्तार डॉ कफील खान की जमानत याचिका को  इलाहाबाद हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है.

उत्तर प्रदेश एसटीएफ ने शनिवार को गोरखुपुर से कफील को गिरफ्तार किया था. उनके खिलाफ गैर जमानत वारंट जारी हुआ था. याचिका में डॉ. कफील की याचिका में गिरफ्तारी पर रोक और एफआईआर रद्द करने मांग की गई थी. जस्टिस रमेश सिन्हा और अनिरुद्ध सिंह की बैंच ने जमानत देने से इंकार कर दिया है.

और पढ़े -   पीएम मोदी का वाराणसी दौरा, योगी सरकार का हर मदरसे को 25-25 महिलाओं को भेजने का आदेश

बताते चले की 9 अगस्त से 11 अगस्त के बीच गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 70 बच्चो की मौत हो गयी थी. इस मामले में कहा गया की अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की वजह से कई बच्चो की मौत हुई. बाद में मुख्य सचिव राजीव कुमार को मामले की जांच सौपी गयी. जिसमे 9 लोगो पर भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया गया. इसमें अस्पताल के प्रिंसिपल राजीव मिश्रा , उनकी पत्नी पूर्णिमा मिश्रा और डॉ कफील खान का नाम शामिल था.

और पढ़े -   रोहिंग्या मुस्लिमों के समर्थन में लिखा, बीजेपी ने दिखाया मुस्लिम नेता को बाहर का रास्ता

इसके बाद से ही डॉ कफील फरार चल रहे थे. यही नही डॉ राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी भी जांच में नाम आने के बाद फरार हो गए. हाल ही में राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी को कानपुर से गिरफ्तार कर लिया गया. फ़िलहाल दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

मालूम हो की हादसे के समय बताया गया की डॉ कफील ने बच्चो की जान बचाने के लिए खूब प्रयास किये. यही नही उन्होंने अपने पैसो से ऑक्सीजन के सिलेंडर मंगाए. लेकिन जांच में उनकी भी लापरवाही भी सामने आई.

और पढ़े -   देहरादून - सड़कों पर उतरे हजारों मुसलमान, किया विरोध प्रदर्शन

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE