उत्तरप्रदेश में सरकार के गठन के साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार पर मुस्लिमों के साथ धर्म के आधार पर भेदभाव के आरोप लग रहे हैं. ऐसे में अब आदित्यनाथ ने कहा कि टीका या टोपी के आधार पर प्रदेश में किसी से भेदभाव नहीं किया जाएगा.

शुक्रवार को उन्होंने एक चैनल से बातचीत में कहा कि प्रदेश सरकार सबका साथ-सबका विकास की नीति पर चल रही है. राज्य में हर किसी को सुरक्षा दी जाएगी. लेकिन किसी भी तरह के तुष्टिकरण की नीति से सरकार दूर रहेगी. साथ ही उन्होंने भगवा संगठनों द्वारा मुस्लिमों को प्रताड़ित करने पर भी चेतावनी दी हैं.

उन्होंने कहा कि ‘भगवा गमछा’ पहनकर गुंडागर्दी करने वाले लोगों को सीएम आदित्यनाथ ने चेतावनी दी है. योगी ने कहा किसी को भी गोरक्षा के नाम पर कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है. प्रदेश में इसके लिए पुलिस और कानून व्यवस्था है. अगर कोई इन नियमों को तोड़ता है तो उनसे सख्ती से निपटा जाएगा.

एंटी रोमियो स्क्वॉयड को लेकर योगी ने कहा कि योगी ने कहा कि बालिकाओं, महिलाओं को सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराने के लिए जरूरी था. इसके तहत 15 हजार लोग पकड़े, इनमें 14 हजार को उनके अभिभावकों के हवाले कर दिया गया.  500 को चेतावनी देकर छोड़ा गया और 500 पर कार्रवाई की गई. कुछ मामलों में पुलिसकर्मियों ने इस अभियान का दुरुपयोग किया, उनके खिलाफ कार्रवाई की गई.

कार्यक्रम में योगी ने कहा कि उम्मीद है कि डेढ़ महीने में कुछ बदलाव देखा होगा. हम लोगों ने आते ही बड़े प्रशासनिक फेरबदल नहीं किए. यूपी को बीमारू राज्य से बाहर निकालेंगे. ट्रांसफर और पोस्टिंग जो उद्योग हो गया था, अब नहीं हो पाएगा. अब अधिकारी को हटाने का कारण बताना होगा। हमारी सरकार सबका साथ, सबका विकास के मंत्र पर काम कर रही है.

इस दौरान उन्होंने कहा कि हमने किसानों, नौजवानों और बुनियादी ढांचे के लिए प्राथमिकताएं तय कर ली हैं. सरकार प्रदेश से वीआईपी कल्चर और जंगलराज को खत्म करेगी. साथ ही कानून को हाथ में लेने वालों पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE