इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने सूचना प्रसारण मंत्रालय को निर्मल बाबा के कार्यक्रमों की जांच करने का आदेश दिया हैं.

कोर्ट ने कहा कि मंत्रालय इस बात को देखे कि विभिन्न टीवी चैनलों पर प्रसारित हो रहे निर्मल बाबा के कार्यक्रम दर्शकों के बीच अंधविश्वास को तो बढ़ावा नहीं दे रहे हैं. अगर ऐसा है तो मंत्रालय बाबा के  कार्यक्रम दिखाने वाले चैनलों पर केबल टेलीविजन नेटवर्क नियम 1994 के प्रावधानों के तहत कार्रवाई करे.

और पढ़े -   बिहार: सामने आया 700 करोड़ का एनजीओ घोटाला, लालू ने बीजेपी नेताओ पर उठाई उंगली

2012 में अधिवक्ता के. सरन की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने ये आदेश दिया हैं. दरअसल याचिकाकर्ता ने निर्मल बाबा के कार्यक्रम का प्रसारण करने वाले टीवी चैनलों के खिलाफ कार्रवाई का निर्देश देने का आग्रह अदालत से किया था. याचिका में आरोप था कि निर्मल बाबा के कार्यक्रम अंधविश्वास को बढावा दे रहे हैं.

और पढ़े -   मुस्लिम ऑटो ड्राइवर हुआ सम्मानित, लड़की को सामूहिक बलात्कार से बचाया था

अदालत को सूचित किया गया कि मंत्रालय ने खुद ही प्रसारणकर्ताओं की संस्था से निर्मल बाबा के खिलाफ शिकायत की थी. अदालत ने जानना चाहा कि शिकायत का क्या हुआ.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE