ndtv-generic-650_650x400_81424776320

नई दिल्ली : सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय महासचिव इलियास मोहम्मद थुम्बे ने भाजपा की केन्द्र सरकार द्वारा एनडीटीवी पर 24 घंटे के प्रतिबंध की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसे बोलने की आज़ादी और लोकतंत्र पर हमला क़रार दिया है.

थुम्बे के मुताबिक़ तानाशाही वाला यह आदेश देश में अघोषित आपातकाल के ज़रिए 1975 के अंधेरे युग की याद दिलाता है.

और पढ़े -   2000 दलितों ने दी इस्लाम अपनाने की धमकी, हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरों को नाले में बहाया

उनके मुताबिक़ सत्ता पर क़ाबिज़ होने के दिन से ही मोदी सरकार कई तरह से असंतोष व उसके खिलाफ़ उठने वाली आवाज़ों को दबाने की कोशिश कर रही है. क़ानून का अवैध तरीक़े से इस्तेमाल कर देशद्रोह के मुक़दमों में बेगुनाहों, अल्पसंख्यकों और मानावधिकार कार्यकर्ताओं को फंसाया जा रहा है. जिसमें तीस्ता सीतलवाड़, डा. ज़ाकिर नायक, ग्रीन पीस, एनडीटीवी जैसे हाल के बेहद हैरान करने वाले उदाहरण हमारे सामने है.

और पढ़े -   हिंसा के बाद योगी सरकार आई हरकत में, आला आधिकारी सस्पेंड, धारा 144 के साथ इंटरनेट पर रोक

उन्होंने दोहराया कि एनडीटीवी पर प्रतिबंध कुछ और नहीं, बल्कि आरएसएस और भाजपा के साम्प्रदायिक एजेंडे के विरोध में उठने वाली हर आवाज़ को कुचलने का उदाहरण है.

थुम्बे ने कहा कि एसडीपीआई एनडीटीवी की बेबाकी और बहादुरी के साथ कर रहे पत्रकारिता का समर्थन करता है, जो कि समाज के कल्याण और देश में मानवता के लिए बेहद ज़रूरी है.

और पढ़े -   मुंबई कमिश्नर पडसलगीकर ने पुलिस फ़ोर्स में मुसलमानों की कमी पर व्यक्त की चिंता

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE