dadri

राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल (RUC) ने लखनऊ में मंगलवार को दादरी हत्या मामले में सबूत से छेड़छाड़ का आरोप लगाते हुए कहा कि दादरी हत्या मामले में सबूत के तौर पर जो मांस के नमूने जाँच के लिए भेजे गये थे उनके साथ “छेड़छाड़” की गई हैं.

राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल के प्रमुख मौलाना आमिर रशदी मदनी ने कहा कि दादरी प्रयोगशाला में केवल दो किलोग्राम मांस भेजा गया था जबकि रिपोर्ट में में मांस की मात्रा चार से पांच किलोग्राम थी. जिसका मतलब है कि कहीं न कहीं कुछ छेड़छाड़ की गई है. उन्होंने आगे कहा, दादरी लैब से दो प्लास्टिक के कंटेनर में मांस भेजा गया था लेकिन पुलिस स्टेशन से जब ये मथुरा लैब पहुंचा ये कंटेनर ग्लास जार में कैसे बदल गया? उन्होंने कहा मांस के नमूने ठीक से सीलबंद भी नहीं किये गये थे.

उन्होंने कहा कि सबसे पहले ये देखा जाना चाहिए कि मांस जिस स्थल से बरामद हुआ वह अखलाक के घर से 150 से अधिक मीटर की दूरी पर था. उन्होंने अखलाक के परिवार के सदस्यों के ख़िलाफ़ दर्ज की गयी एफ़आईआर रद्द करने की मांग के साथ इस मुद्दें पर  मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से भी इस्तीफे की मांग की हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें