babu

अहमदाबाद। गुजरात उच्च न्यायालय ने 2002 के नरोदा पाटिया दंगा मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे बजरंग दल नेता बाबू बजरंगी को एक हफ्ते की जमानत दे दी।

गुरुवार को अदालत ने बाबू बजरंगी की उसकी पत्नी की बिमारी के आधार पर सात दिनों की जमानत स्वीकार कर ली. दरअसल बाबू बजरंगी  ने अपनी पत्नी की बीमारी का हवाला देते हुए 30 दिनों के लिए जमानत का अनुरोध किया था.

साबरमती केंद्रीय कारागार में बंद बाबू बजरंगी को विशेष त्वरित अदालत ने 2002 के नरोदा पाटिया दंगा मामले में 2012 में सजा सुनाते हुए उम्रकैद की सजा सुनायी थी.

साल 2002 के नरोदा पाटिया दंगों में अल्पसंख्यक समुदाय के 97 लोग मारे गए थे. इस मामले में एक विशेष जांच अदालत ने बजरंगी के अलावा 30 को दोषी ठहराया था. इनमें गुजरात की पूर्व मंत्री मायाबेन कोडनानी भी शामिल थीं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

Related Posts