शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने उत्तर प्रदेश के प्रशासनिक अधिकारियों पर मिलीभगत कर भू-माफिया द्वारा वक्फ की 100 करोड़ की जमीन बेचे जाने का आरोप लगाया है.

NDTV  की रिपोर्ट के अनुसार, रिजवी ने बताया कि लखनऊ में मलका गेती खुसरो बेगम, पंजीयन संख्या-1710 को खुले आम वक्फ के पुराने तालाब को पाटकर वक्फ सम्पत्ति को अवैध रूप से भू-माफिया हरीश मन्शानी पुत्र भाग चन्द्र मन्शानी, राजेश तलवानी, मनीष व आबिद हुसैन द्वारा बेचा जा रहा है. बोर्ड द्वारा लगाए गए अनुमान के अनुसार वक्फ की भू-माफिया द्वारा लगभग 100 करोड़ की वक्फ भूमि बेची जा चुकी है.

और पढ़े -   सिमी सदस्यों के एनकाउंटर में मिली सभी पुलिस अधिकारियों को क्लीन चीट

रिजवी ने बताया कि बोर्ड द्वारा इस मामले में की गई शिकायतें जिलाधिकारी लखनऊ के यहां लम्बित हैं. बोर्ड द्वारा अवैध कार्य को रुकवाए जाने के संबंध में वर्ष-2015 से आज तक पत्राचार किया जा रहा है. लेकिन, माफिया एवं संबंधित अधिकारियों की मिली भगत से बेची जा रही वक्फ सम्पत्ति पर कोई भी कार्यवाही नहीं हो रही है. बोर्ड वक्फ में हुई वक्फ सम्पत्ति की अवैध बिक्री की जांच सीबीआई से कराए जाने की भी तैयारी कर रहा है.

और पढ़े -   बड़ा खुलासा - बीजेपी नेता करता था अधिकारियों को स्कूली छात्राओं की सप्लाई

रिजवी ने कहा कि एक तरफ मुख्य सचिव द्वारा सभी जिलों के जिलाधिकारी एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देश जारी किए जा रहे हैं कि बोर्ड द्वारा भेजे गए पत्रों पर तत्काल कार्यवाही हो और दूसरी तरफ जिले के अधिकारी बेखौफ होकर निजी लाभ के चलते भू-माफिया को वक्फ सम्पत्ति बेचने की छूट दे रहे हैं. उन्होंने बताया कि बोर्ड ने शुक्रवार को एक बार फिर इस मामले पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है.

और पढ़े -   दूसरी शादी के लिए धर्मपरिवर्तन को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ग़ैरक़ानूनी करार दिया

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE