hijab

बीते दिनों सयुंक्त राष्ट्र की यूनिवर्सिटी द्वारा मुसलमानो को किराये के मकान देने के सबंध में कराये गये सर्वे में मुस्लिमो के साथ भेदभाव की बात सामने आई थी. देश में मोजूद असहिष्णुता और भेदभाव के माहौल ने लोगों के दिलों में नफरत की दीवारे खींच दी हैं. जिसका दर्द सभी को झेलने के लिए मजबूर होना पड़ रहा हैं.

एक मुस्लिम सैन्य अधिकारी की पत्नी ने ऐसे को दर्द को ट्विटर पर बयान किया हैं. अंबरीन जैदी ने दिल्ली में मुस्लिम को घर खोजने में होने वाली दिक्कतों के बारे में ट्वीटर पर बताया। अंबरीन के मुताबिक, आर्मी ऑफिसर की पत्नी होने के बावजूद लोग उन्हें मुस्लिम होने की वजह से घर देने को तैयार नहीं थे।

अंबरीन, जिन्होंने अपने टि्वटर अकाउंट पर ‘प्राउड इंडियन फौजन’ लिख रखा है, उन्होंने लिखा था, ‘हम दिल्ली में एक घर ढूंढ रहे हैं पर मकान मालिक हमारा धर्म जानकर मना कर देते हैं। मेरे पति के आर्मी में होने का भी कोई फर्क नहीं पड़ता मेरे धर्म के नाम पर ही सब तय होता है।’


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें