मुंबई महाराष्ट्र की राजधानी मुबंई में एक मराठी थियटर प्रोड्यूसर के फ्लैट में नॉन वेज पकाने पर मारपीट का मामला सामने आया है। प्रोड्यूसर ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। शिकायत के मुताबिक फ्लैट में नॉन वेज पकाने पर सोसाइटी के बाकी लोगों ने उसके परिवार के साथ मारपीट की। हालांकि, सोसाइटी के अन्य लोगों ने प्रोड्यूसर के इन आरोपों का खंडन किया है। गौरतलब है कि मलाड में पहले भी एक ऐसा मामले देखने को मिला था, जब उसे नॉन खाने पर फ्लैट देने से इंकार कर दिया गया था। पुलिस ने 10-15 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है और मामले की जांच कर रही है। थियटर प्रोड्यूसर गोविंद चव्हाण के साथ हुई घटना के बाद स्थानीय नेता उनके साथ आ गए और पुलिस से इस मामले में कार्रवाई करने की मांग की।

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट में सोसाइटी में रहने वाले अन्य लोगों ने चव्हाण के इन आरोपों का खंडन किया है। एक स्थानीय का कहना है कि गुरुवार शाम को बिल्डिंग के गार्डन में एक पार्टी चल रही थी। उसी वक्त चव्हाण के फ्लैट से गंदा पानी और कचरा फेंका गया। जिसकी वजह से बाकी लोग गुस्सा हो गए और उन्होंने चव्हाण के फ्लैट पर जाकर इसकी वजह जाननी चाही। उस वक्त मामले को शांत करने की बजाए चव्हाण ने फ्लैट तक गए लोगों से मारपीट की और गालीगलौच की।

आई-टी विभाग के साथ काम करने वाले चव्हाण का दावा है कि रंगनाथ कास्कर रोड़ पर स्थित बोनावेंचर सोसाइटी में उनके फ्लैट में वे पिछले छह महीने से भेदभाव झेल रहे हैं। चव्हाण ने कहा कि यह फ्लैट मेरा खुद का है। लेकिन इमारत में बाकी रहने वाले लोगों में बहुलता गुजराती और मराठियों की है। ये सभी लोग चाहते हैं कि मैं मेरा फ्लैट बेंच दूं और दूसरी जगह चला जाऊं, क्योंकि हम लोग नॉन वेज पकाते हैं। सोसाइटी के कई लोगों ने मुझे फंसाने के लिए झूठे आरोप भी लगाए हैं।

इस घटना के बारे में चव्हाण ने कहा कि गुरुवार रात को करीब 50 गैर मराठी लोग मेरे फ्लैट पर पहुंचे और दरवाजे पर अंडे फेंके। इसके साथ ही उन्होंने दरवाजे खडख़ड़ाकर मेरे परिवार को धमकाया भी। इसके साथ ही मौके पर बुलाई गई पुलिस के सामने ही कुछ स्थानीय लोगों ने मेरे 12 साल के बेटे को थप्पड़ मारा। मैं उस वक्त घर पर नहीं था, मैं किसी काम से घर से बाहर गया हुआ था। जब मैं रात करीब दो बजे घर पहुंचा तो इसके बारे में पता चला।

साथ ही चव्हाण ने कहा कि मुझे और मेरे परिवार को सोसाइटी में होने वाली पार्टी की कोई जानकारी नहीं थी। स्थानीय लोगों का वह दावा जिसमें कहा गया है कि मेरे फ्लैट से गंदा पानी फेंका गया है, वह बिल्कुल ही आधारहीन है। रात में साढ़े ग्यारह मेरी पत्नी और बेटी सोईं हुई थी, उस वक्त हमारे घर में कोई खाना नहीं बन रहा ता।

पुलिस ने मामले दर्ज कर सोसाइटी में लगे सीसीटीवी फूटेज खंगाली शुरू कर दी है। पुलिस को आशा है कि गुरुवार रात को हुए हादसे की फुटेज सीसीटीवी में मिल सकती है। (राजस्थान पत्रिका)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें