उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने हाल में पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में दल से निकाले गये सपा छात्रसभा के पूर्व अध्यक्ष सुनील यादव और सपा लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय प्रमुख आनन्द भदौरिया का निष्कासन शुक्रवार को खत्म कर दिया।

सपा के मुख्य प्रान्तीय प्रवक्ता वरिष्ठ काबीना मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने यहां बताया कि पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने दल के आनुषांगिक संगठनों सपा छात्रसभा तथा सपा लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्षों क्रमश: सुनील यादव और आनन्द भदौरिया के प्रत्यावेदन पर विचार करते हुए उनका निष्कासन समाप्त कर दिया है।

गौरतलब है कि यादव और भदौरिया को गत 25 दिसम्बर को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में पार्टी से निकाल दिया गया था। ये दोनों मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के करीबी बताये जाते हैं। बता दें कि ऐसी खबरें आई थीं कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने करीबियों को पार्टी से निकाले जाने पर नाराज थे।

बीते शनिवार को सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने सैफई महोत्‍सव का उद्घाटन किया, लेकिन अखिलेश इसमें नहीं पहुंचे। राजनीतिक गलियारों में कयास लगाए गए कि यादव परिवार में खींचतान की वजह से ऐसा हुआ है।

akhilesh-said-modi-should-work-on-land-rather-than-facebookकहा गया कि करीबियों को निकाले जाने से नाराज सीएम अखिलेश यादव इटावा में हुए सपा के महत्वाकांक्षी सैफई महोत्सव के उद्घाटन कार्यक्रम में ही शामिल नहीं हुए। उनकी जगह उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने समारोह का उद्घाटन किया। साभार: जनसत्ता


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें