mamta

इस साल मुहर्रम और दुर्गा पूजा एक साथ आ रहे हैं जिसके चलते साम्प्रदायिक सोहार्द ख़राब ना हो इसके लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बड़ा फैसला लेते हुए घोषणा की कि दशहरे को यानी 11 अक्टूबर को शाम को चार बजे तक ही प्रतिमाएं विसर्जित होंगी. उसके बाद मोहर्रम के कारण विसर्जन नहीं होगा.

मंगलवार को कोलकाता पुलिस के वेब पोर्टल आसान के उद्घाटन के अवसर पर पूजा के दौरान सभी को सतर्क रहने की हिदायत देते हुए कहा कि दुर्गा पूजा, दिवाली, मोहर्रम के पहले और उस दौरान प्रत्येक व्यक्ति को चौकन्ना रहना चाहिए ताकि किसी भी तरह के हादसे को टाला जा सके.

और पढ़े -   अंधविश्वास से होगा इंसेफेलाइटिस का इलाज, अस्पताल के पलंगों पर बिछाई गई भगवा चादर

साथ ही उन्होंने आगे कहा कि इस पोर्टल से कोलकाता की पूजा कमेटियों को काफी मदद मिलेगी. इस दौरान ममता बनर्जी ने सभी जिला पुलिस मुख्यालयों और कमिश्नरेट को 25 महिला और 25 गरीब क्लबों को पूजा करने के लिए 10 हजार रुपए देने का निर्देश दिया.

इस मुद्दे को राजनितिक बनाते हुए विपक्षी दलों ने ममता के फैसले पर विरोध जताते हुए कहा है कि ऐसा ‘फतवा’ निकालकर ममता ने हिंदुओं की धार्मिक परंपराओं को पैरों तले कुचलने का काम किया है और दूसरी तरफ विरोध और हिन्दुओं के क्रोध से बचने के लिए राज्य के दुर्गा उत्सव मंडलों को दान देने का लालच दिखाया है.

और पढ़े -   गुजरात में स्वाइन फ्लू का कहर, मरने वालों की संख्या पहुंची 242 तक

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE