raghav

मध्यप्रदेश के बीजेपी नेता और पूर्व वित्तमंत्री पर अपने नौकर के साथ कुकृत्य करने के मामले मेंअदालत ने आरोप तय कर दिए. विशेष न्यायाधीश डीके पालीवाल की अदालत में मामले की सुनवाई के दौरान आरोपी बनाए गए राघवजी, शेर सिंह और सुरेश चौहान की और से से दी गई दलील को नकारते हुए पुलिस के सभी आरोपों को सही पाया.

अदालत ने आदेश जारी कर तीनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 377 व 506 के तहत मुकदमा चलाने के लिए कहा हैं. मामले की अगली सुनवाई 10 अगस्त को होगी. इस मामले में आरोपियों को 10 साल से लेकर उम्रकैद तक की सजा हो सकती है.

गौरतलब रहें कि पूर्व वित्तमंत्री राघवजी व दो अन्य के खिलाफ उनके नौकर राजकुमार दांगी ने हबीबगंज थाने में 7 जुलाई 2013 को लिखित शिकायत में कहा था कि राघवजी ने नौकरी दिलाने का आश्वासन देकर अपने 4 इमली स्थित बंगले में तीन साल तक कुकृत्य करते रहे. यह बात जब उन्हीं के यहां काम करने वाले सुरेश चौहान और शेर सिंह को पता चली तो वह भी उसे ब्लैकमेल कर कुकृत्य करने लगे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें