जोधपुर। भादवासिया में पिछले 15 दिनों से शराब की दुकान खोलने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे निवासियों ने अब दमकी दी है कि अगर दुकान नहीं हटाई गई तो वे इस्लाम अपना लेंगे।

जिला कलेक्टर की एक टीम ने प्रदर्शनकारियों से बात करने की कोशिश की पर उनमें से कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं। उनकी पहली और आखिरी इच्छा यही है कि उनके क्षेत्र से शराब की दुकान खोलने की योजना कैंसल कर दी जाए।

islam-1452347705

भादवासिया के निवासी अशोक ने कहा कि हम डॉक्टर भीमराव आंबेडकर के अनुनायी हैं और ‘शराब-बंदी’ के चैंपियन हैं। हम अपने इलाके में इस दुकान को खोलने की अनुमति नहीं देंगे। अगर प्रशासन कदम नहीं पीछे नहीं लेता तो प्रदर्शन के तौर पर हम सब अपना धर्म परिवर्तन कर लेंगे और इस्लाम अपना लेंगे।

और पढ़े -   मराठवाड़ा में रोज दो से तीन किसान कर रहे आत्महत्या: सरकारी रिपोर्ट

वहीं दूसरी तरफ, डिस्ट्रिक्ट एक्साइज़ ऑफिसर राजवीर सिंह यादव ने कहा कि हमारी टीम उस जगह पर गई। हमें पता चला कि दुकान को नियमों और शर्तों को पूरा करने के बाद ही परमिट दिया गया है।

यादव ने कहा कि हमने उन्हें बताया कि यह दुकान सारे जरूरी मापदंडों को पूरा करती है, पर वे लोग टस से मस नहीं हुए। हम उनसे फिर एक बार बात करेंगे। संत रविदास कॉलोनी के निवासियों ने एक जनमत संग्रह करवाने का प्रस्ताव दिया। उन्होंने आश्वासन दिया कि 51% से ज्यादा लोग शराब की दुकान खोलने के विरोध में होंगे पर यादव का कहना है कि चूंकि दुकान इस साल आवंटित की गई है इसलिए जनमत संग्रह के बारे में अगले साल ही सोचा जा सकता है।

और पढ़े -   बिहार: सामने आया 700 करोड़ का एनजीओ घोटाला, लालू ने बीजेपी नेताओ पर उठाई उंगली

शराब की दुकानों के लिए मिले नए आवंटनों से स्थानीय लोगों में असंतोष आ गया है। राज्य के कई जगहों पर लोग इसी तरह से शराब की दुकानों के खुलने का विरोध कर रहे हैं।

दुकान की लोकेशन का चुनाव लाइसेंस होल्डर की जिम्मेदारी होती है। यह चुनाव एक्साइज़ डिपार्टमेंट द्वारा दिए गए नियम और शर्तों के हिसाब से होना चाहिए, पर इसके बावजूद कई दुकानों की लोकेशन के चुनाव में इन नियमों का उल्लंघन किया जाता है। बल्कि, एक्साइज़ डिपार्टमेंट खुद कई दुकानों की लोकेशन नियमों के उल्लंघन के चलते बदल चुका है। (NBT)

और पढ़े -   केरल: बुरके को लेकर दो गुट भिड़े, कॉलेज को करना पड़ा बंद

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE