facebook-shut-560fc562e3745_exlst

फेसबुक पर धार्मिक मामलों से जुड़े संदेशों पर अभद्र भाषा का प्रयोग करना मंहगा पड़ेगा। ऐसे फे सबुक अकाउंट पर खुफिया एजेंसी नजर रख रही हैं। तकरीबन 20 हजार से अधिक फेसबुक अकाउंट ऐसे हैं जिन्हें पुलिस व खुफिया एजेंसियों ने सर्विलांस पर लिया हुआ है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार ये संदेश राष्ट्र विरोधी ताकतों की ओर से भी फैलाए जाते हैं, जिनमें युवा भ्रमित होकर गलत दिशा में जा रहे हैं।

वर्तमान में सोशल मीडिया का सबसे सशक्त माध्यम फेसबुक ही माना जाता है। पल भर में विदेश-देश के किसी भी हिस्से की जानकारी लोग फेसबुक पर अपलोड कर देते हैं। इस जानकारी में लोग अपनी-अपनी प्रतिक्रियाएं भी देते हैं। लेकिन, पिछले कुछ समय से धार्मिक मामलों को लेकर फेसबुक पर ज्यादा से ज्यादा टिप्पणियां में युवा वर्ग खासी रूचि ले रहा है। कमेंट्स के माध्यम से होने वाली बहस एक-दूसरे के धर्म पर अभद्र भाषा का प्रयोग शुरू हो जाता है। पुलिस महानिरीक्षक संजय गुंज्याल ने बताया कि खुफिया एजेंसियों के विश्लेषण में पता चला है कि अभद्र भाषा चंद लोगों के उकसाने के कारण शुरू होती है। पिछले कुछ समय में खुफिया एजेंसियों ने फेसबुक के माध्यम से सैकड़ों ऐसे लोगों को चिह्नित भी किया है। इन्हीं में से कुछ पकड़े भी गए हैं जिनका राष्ट्र विरोधी ताकतों से संबंध निकला है। उन्होंने बताया कि तीन दिन पहले रुड़की से पकड़े गए संदिग्ध आतंकियों को भी इसी तरह के संदेशों से फिल्टर किया गया था। उन्होंने बताया कि उत्तराखंड पुलिस भी इस सब पर पहले से काम कर रही है। वर्तमान में तकरीबन 20 हजार से अधिक ऐसे फेसबुक अकाउंट्स पर नजर रखी जा रही है, जो इस तरह की टीका टिप्पणी में संलिप्त रहते हैं।

—————–

पकड़ गए संदिग्धों की कराएंगे काउंसिलिंग

पुलिस महानिरीक्षक संजय गुंज्याल ने बताया कि राह से भटके युवाओं को काउंसिलिंग के जरिए ही सही रास्ते पर लाया जा सकता है। उन्हें यह बताना होगा कि भारत एक ऐसा देश है जहां सभी को साथ रहना होगा। रुड़की से पकड़े गए युवकों को भी जेल से बाहर आने के बाद काउंसिलिंग कराने पर ही जोर रहेगा। ताकि, इन्हें अच्छे बुरे का मतलब समझाकर सही रास्ते पर लाया जा सके।


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें