प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इजराइल यात्रा की केरल के मुख्यमंत्री पिनाराय विजयन ने निंदा की है. उन्होंने मोदी की इजरायल यात्रा को आतंकवादी राज्य की यात्रा करार देते हुए इजरायल को आतंकी देश बताया है.

उन्होंने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि आप एक ऐसे देश के साथ आतंकवाद विरोधी गठबंधन बना रहे है जो निर्दोष लोगों को मारता है. यह एक अयोग्य तरीका है. विजयन ने कहा, भारत का दिल फिलिस्तीन में इजरायल की क्रूरता के खिलाफ है.

विजयन ने कहा कि भारत इस बात के खिलाफ है इजरायल ने खुद की मिट्टी को आजाद कराने के लिए लड़ रहे फिलिस्तीन के लोगों की लड़ाई को खुद के खिलाफ बताते हुए जोड़ दिया.

और पढ़े -   आखिरकार बलात्कार का आरोपी फलाहारी बाबा को पुलिस ने किया गिरफ्तार

उन्होंने कहा, आतंकवादी राज्य के साथ “आतंकवादी विरोधी” सहयोगी किसी मजाक से कम नहीं है जो निर्दोष लोगों की हत्या कर रहा है. उन्होंने कहा, भारत का मस्तिष्क इजरायल के आक्रोश के खिलाफ है जो फिलीस्तीनी लोगों के संघर्ष को अपनी धरती में जीवित रहने के लिए खतरा मानता है. ज़िओनिस्ट का उद्देश्य केवल यहूदियों के यहूदियों को बनाने के लिए ही नहीं बल्कि फिलिस्तीन को पूरी तरह से खत्म करना है इसे स्वीकार करते हुए, भारतीय लोगों ने हमेशा फिलिस्तीन प्रतिरोध का समर्थन किया है.

और पढ़े -   अदालत ने बढ़ती असहिष्णुता पर जताई चिंता, कहा - रोक लगाने की है सख्त जरुरत

भारत एक गैर-संगठित राष्ट्र के विपरीत है, जिसमें इजरायल की नीति के साथ फिलिस्तीनियों को नागरिकता से वंचित करने और संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विचार किए बिना जातिवाद को आगे बढ़ाने की नीति के खिलाफ है. इस दृष्टिकोण से, नरेंद्र मोदी का नारा बदल गया है.

यह संघ परिवार के मनोदशा की वजह से है कि फिलीतीन इजरायल की सेना की गोलीबारी के सामने जीते हैं, मोदी-नेतन्याहू के संयुक्त वक्तव्य में एकता संघ परिवार और ज़ियानवाद विचारधाराओं के बीच एकता है.

और पढ़े -   गौरक्षकों को ईद उल अजहा पर हुए कुर्बानी बकरों की तेरहवीं मनाना पड़ा महंगा

केरल सीएम ने कहा, फिलिस्तीन प्राधिकरण के प्रमुख रामल्लाह का दौरा किए बिना नरेंद्र मोदी का यहूदीवादी सहानुभूति वाला रवैया इजरायल के मानव अधिकारों के उल्लंघन की निंदा करे बिना परोक्ष रूप से इसराइल का समर्थन करना है.

उन्होंने कहा, भारत, में विभिन्न धर्मों के लोग रह रहे है.जो कभी भी ज़ियोनिज्म के मार्ग को स्वीकार नहीं कर सकते. यहूदी राष्ट्र और आरएसएस के सांप्रदायिक एजेंडा को एक ही रूप में देखा जाना चाहिए.

നിരപരാധികളെ കൊന്നൊടുക്കുന്ന ഭീകരരാഷ്ട്രമായ ഇസ്രയേലുമായി 'ഭീകരവിരുദ്ധസഖ്യ'മുണ്ടാക്കുക എന്നത് സാമാന്യ യുക്തിക്കു ദഹിക്കു…

Posted by Pinarayi Vijayan on Thursday, 6 July 2017


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE