modi156

कानपुर; तीन तलाक को लेकर महोबा की रैली में प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गये बयान के बाद केंद्र सरकार का रुख स्पष्ट हो गया हैं. ऐसे में उलेमाओं ने भी इस मुद्दे पर मोदी सरकार के साथ आर-पार की ठान ली हैं.

शहर काजी मौलाना आलम रजा नूरी ने प्रधानमन्त्री के बयानों की आलोचना करते हुए कहा कि मोदी शरीयत को लेकर सियासत न करें. शरीयत को किसी को बदलने का अधिकार नहीं है. न तो केंद्र सरकार और न ही कोर्ट शरीयत को बदल सकती है.

और पढ़े -   अमरिंदर सिंह ने किसानों से किया वादा निभाया, सीमांत कृषकों का 2 लाख रु तक का कर्ज माफ़

वहीँ मौलाना रियाज हशमती ने प्रधानमंत्री पर इस मसले को लेकर सियासत करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस मुद्दे को सियासी रंग दिया जा रहा है. और अब यह दिखने भी लगा है.

शहर काजी मौलाना मतीनुल हक ओसामा कासिमी ने कहा कि प्प्रधानमंत्री को इसकी फिक्र करने का हक नहीं है लेकिन सियासी फायदे के लिए वो इसमें कूद पड़े है.

और पढ़े -   यूपी में फिर दिखा गौ-आतंक, पुलिस की मौजूदगी में युवक को बेदर्दी से पीटा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE