गौमांस को प्रतिबंधित करने को लेकर मेघालय बीजेपी में मची बगावत से हाईकमान घबरा गई है. जिसके चलते बीजेपी ने राज्य में गौमांस पर पाबंदी लगाने के फैसले से अपना कदम वापस ले लिया है. दरअसल, गौमांस पर पाबंदी के चलते बीजेपी नेताओं ने इस्तीफा देना शुरू कर दिया है.

मेघालय में भाजपा के प्रभारी नलिन कोहली ने कहा कि मेघालय में कोई बैन नहीं लगा है और जिसने पार्टी छोड़ी है उस पर पहले से ही पार्टी विरोधी कामों के लिए एक्शन की तैयारी चल रही थी. साथ ही उन्होंने इसके लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया है.

और पढ़े -   गौरक्षकों को ईद उल अजहा पर हुए कुर्बानी बकरों की तेरहवीं मनाना पड़ा महंगा

कोहली ने कहा कि कि अगले साल चुनावी मैदान बनने जा रहे इस राज्य में कांग्रेस राजनीतिक एजेंडे का सांप्रदायीकरण कर रही है. उन्होंने आगे कहा, ‘कांग्रेस का ‘कुनीति’ विभाग इस फर्जी और द्वेषपूर्ण झूठ के साथ एजेंडे का सांप्रदायीकरण की कोशिश कर रहा है कि भाजपा मेघालय में गौमांस पर प्रतिबंध लगाना चाहती है.’

कोहली ने कहा, ‘सत्य से परे कुछ भी नहीं है क्योंकि हमारी संवैधानिक व्यवस्था के तहत, केंद्र सरकार उस क्षेत्र का अतिक्रमण नहीं कर सकती, जिसमें राज्य सरकार को फैसला लेना होता है’. उन्होंने कहा कि मेघालय का भाजपा का एक सूत्रीय एजेंडा ‘सबका साथ सबका विकास’ है और वह विकास के अपने सकारात्मक एजेंडे पर विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो रही है.

और पढ़े -   योगी राज: गरीब और कुपोषित बच्चों का मिड-डे मील गायों को खिलाया जा रहा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE