मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में मकबूल अहमद ने अपनी छोटी से टी स्टाल खोली थी. इसी के साथ उन्होंने गरीब लोगों को निशुल्क नाश्ता देना शुरू किया था. आज उनका ये परोपकारी कार्य इतना बढ़ गया हैं वे रोजाना 300 गरीब लोगों को दोनों वक्त निशुल्क भोजन कराते है.

वहीँ दूसरी और शिवराज सरकार की दीनदयाल रसोई एक माह में ही बंद होने की कगार पर है जिसे गरीब लोगों को पांच रुपये में भोजन देने के लिए शुरु किया गया था. लेकिन मकबूल का काम बिना किसी रोकटोक के चल रहा हैं.

और पढ़े -   बीजेपी महिला नेता ने मुस्लिम लड़के के साथ दिखने पर हिन्दू लड़की को पीटा

मकबूल अहमद बताते हैं कि पुण्य के इस काम की शुरुआत में वह अपनी चाय की दुकान से होने वाले मुनाफे से की थी. जरूरत पड़ने पर घर से भी पैसे लाया करते थे, लेकिन समय के साथ इस परोपकार के काम में शहर के हर वर्ग के लोग मदद के लिए आगे आने लगे.

मकबूल अहमद ने बताया कि अब तो अल्लाह की इस रसोई में इतनी बरकत होने लगी है कि यहां हजारों लोग भी आ जाएं, तो भोजन करके ही जाएंगे. उनका कहना है कि दूसरे लोगों को प्रेरणा लेने की जरूरत है, जिससे शहर में कोई भी गरीब भूखा न सोए.

और पढ़े -   गौरक्षकों को ईद उल अजहा पर हुए कुर्बानी बकरों की तेरहवीं मनाना पड़ा महंगा

इस लंगर में पन्नी बीनने वाले, भिखारी, ठेले वाले और दूरदराज के गांवों से आए गरीब मजदूर जिन्हें शहर में अगर काम नहीं मिला तो वे यहां आकर पेट भर लेते हैं और फुटपाथ पर सो जाते हैं. ये गरीब लोग इस नेक काम के लिए मकबूल को दुआएं दे रहे हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE