maulana taukir apologized over devband issue

लखनऊ: पिछले दिनों मौलाना तौकीर रज़ा ने देवबंद जाकर मुस्लिम नौजवानों की गिरफ़्तारी तथा अन्य समस्याओं को लेकर बरेलवी ओर देवबंदी फिरके को एक मंच पर आने की बात कही थी जिसे लेकर बरेली से उनपर फतवा तक निकल गया था.

वहीँ मौलाना तौकीर रज़ा का कहना है की एक ऐसा साझा एजेंडा बनाना चाहिए जिसे लेकर दोनों फिरके एक साथ खड़ें हो सके. पंजाब केसरी में प्रकाशित खबर के अनुसार, बरेलवी मसलक के धर्मगुरु मौलाना तौकीर रजा खां ने आज टेलीफोन पर बताया कि हाल में उन्होंने देवबंद में 2 मुस्लिम युवकों की गिरफ्तारी के बाद दारुल उलूम देवबंद जाकर बरेलवी और देवबंदी मसलक के लोगों को अपनी-अपनी मान्यताएं बरकरार रखते हुए एकजुट होने की पेशकश की थी। खां का दावा है कि देवबंद के जिम्मेदार और आेहदेदार लोगों ने उनकी इस कोशिश में साथ देने का भरोसा दिलाया है।

और पढ़े -   झारखंड - मृतक परिवारों ने शवों को दफनाने से किया इनकार, दो लाख की आर्थिक मदद भी ठुकराई

दूसरी तरफ मदरसा देवबंद का कहना है की अगर एक शख्स की जगह पूरा बरेलवी मसलक एकजुटता की तरफ बढ़े तो अच्छा होगा। दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम मौलाना अब्दुल कासिम नोमानी ने कहा कि तौकीर रजा खां ने देवबंद पहुंचकर बरेलवी और देवबंदी मसलक के लोगों को मुस्लिम कौम की तमाम समस्याआें को सुलझाने के लिए एक मंच पर लाने की पेशकश की थी। जो काबिले तारीफ है.

और पढ़े -   झारखंड हत्याकांड - पुलिस के सामने ही की थी नईम की हत्या, बचाने के बजाय तमाशबीन बनी रही

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE