मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में सरकार की ओर से सप्लाई किए जाने वाले मिड डे मील को हिन्दू धर्म के भगवानों को भोग लगाने की वजह से 50 से ज्यादा मदरसों ने लेने से इंकार कर दिया हैं. मदरसों का कहना हैं कि कहना है कि इन खानों का एक हिस्सा भगवान को भोग के रूप में चढ़ाया जाता है, जो मुस्लिम स्वीकार नहीं कर सकते.

और पढ़े -   खतौली रेल हादसें में 8 अधिकारियों पर कार्रवाई, जांच में सामने आई खुलकर लापरवाही

मदरसा प्रशासन ने कहा कि खाने को स्टूडेंट्स को देने से पहले हिंदू भगवानों को उसका भोग लगाया जाता है. वे ऐसे पूजा-पाठ करके दिया गया खाना ना तो खुद खाएंगे और ना किसी स्टूडेंट को खाने देंगे. साथ ही कहा गया कि छात्रों के परिजनों को इन सप्लायर्स द्वारा भिजवाए गए खाने से समस्या है और परिजनों ने अपने बच्चों को मदरसों से निकालने की चेतावनी दी है.

और पढ़े -   गोरखपुर मामले में एक पिता का दर्द - स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ पुलिस ने नहीं की शिकायत दर्ज

मदरसा शिक्षा समिति के अध्यक्ष के अनुसार, मिड डे मील का खाना अच्छी क्वालिटी का भी नहीं होता. उनकी मांग है कि मदरसों में बच्चों को वहीं पर खाना बनाकर खिलाया जाए.

बताया जा रहा है कि, उज्जैन में अब तक मध्यान्ह भोजन पहुंचाने का काम श्री जगन्नाथ मंदिर इस्कॉन फूड संस्था करती थी. साल 2010 से 2016 जुलाई तक इस्कॉन ने फूड सप्लाई का काम किया, लेकिन मुस्लिम इस्लामिक स्कूल और मदरसों ने ये खाना लेने से इनकार कर दिया.

और पढ़े -   दूरदर्शन और आकाशवाणी ने स्वतंत्रता दिवस पर त्रिपुरा के सीएम के भाषण नहीं किया प्रसारित

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE