बिहार सरकार में जेडीयू कोटे से बने इकलौते मुस्लिम मंत्री ख़ुर्शीद उर्फ़ फ़िरोज़ अहमद को इमारत-ए-शरिया ने फतवा जारी कर इस्लाम से खारिज हो गए है. उनके खिलाफ इस सबंध में इमारत-ए-शरिया की और से फतवा जारी किया गया है.

दरअसल विश्वासमत के बाद फिरोज अहमद ने विधानसभा में जय श्री राम का नारा लगाया था. इमारत शरिया के मुफ्ती सुहैल अहमद कासमी ने फतवा जारी किया. जिसमे कहा गया कि फिरोज अहमद को इस्लाम से खारिज है. साथ ही उनका निकाह भी टूट गया है. अब उन्हें अपने इस कृत्य के लिए तौबा करके फिर से निकाह करना होगा.

और पढ़े -   गौशाला में गौ-माताओं को मार कर खालों की तस्करी करता था बीजेपी का गौभक्त नेता

कासमी ने फतवा में कहा कि खुर्शीद को इस्लाम से खारिज और मुर्तद (विश्वास नहीं करने वाला) करार दिया गया है. साथ ही कहा गया कि उन्होंने कहा था, मैं रहीम के साथ-साथ राम की भी पूजा करता हूं और मैं हिन्दुस्तान के सभी धार्मिक स्थानों पर मत्था टेकता हूं. ऐसा शख्स इस्लाम से खारिज और मुर्तद है.

पश्चिमी चंपारण की सिकटा सीट से विधायक फ़िरोज़ ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सामने अल्पसंख्यक समुदाय के विरोध के बाद माफ़ी माँग ली है. हालांकि उन्होंने कलमा नहीं दुहराया.

और पढ़े -   गुजरात में स्वाइन फ्लू का कहर, मरने वालों की संख्या पहुंची 242 तक

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE