मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ट्वीट को लेकर विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने उन्हें आड़े हाथों लिया है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ट्वीट को लेकर विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने उन्हें आड़े हाथों लिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा कि सरकार के मंत्रियों और अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार और घोटालों की जांच रोकने और अपराध करने के बावजूद उन पर छापे न मारने के लिए ही मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके जनता को गुमराह करने का प्रयास किया है। उन्होंने कहा कि छापे न पड़ें, इसलिए सरकार पहले से ही हल्ला मचाकर जनता में डर का माहौल पैदा करने का प्रयास किया है।

उन्होंने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि अखबारों में प्रधानमंत्री कार्यालय के सूत्रों के हवाले से मुख्यमंत्री का ट्वीट कि अगला छापा उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और लोक निर्माण विभाग मंत्री सत्येंद्र जैन पर मारा जा सकता है, को पढ़कर मुझे जरा भी हैरानी नहीं हुई। सच्चाई यही है कि आप सरकार पूरी तरह भ्रष्टाचार में डूबी हुई है। जनता को गुमराह करके अपनी जेबें भरना ही आप सरकार की दिनचर्या बन गई है। सम-विषम योजना की आड़ में आप सरकार के लोगों ने आॅटो रिक्शा के परमिट जारी करने के नाम पर करोड़ों रुपए का घोटाला किया है।

दिल्ली सरकार में गरीब जनता का राशन काला बाजार में बेच कर करोड़ों रुपए का भ्रष्टाचार किया जा रहा है। आॅटो परमिट घोटाले की सीबीआइ जांच कराने की बात आपने कही थी, लेकिन आज तक यह जांच नहीं कराई गई है। सिर्फ परिवहन विभाग के तीन छोटे अधिकारियों को बर्खास्त करके बड़े भ्रष्टाचारियों का बचाने का प्रयास किया गया है। हेरा-फेरी करके और पैसे लेकर उन लोगों को आॅटो परमिट जारी किए गए जो उसके लायक ही नहीं थे। कुछ अन्य घोटालों की जानकारी मुझे है, उनके बारे में भी मुख्यमंत्री से चर्चा करने के लिए विपक्ष के नेता ने छह जनवरी को पत्र लिखकर मुख्यमंत्री से मिलने का समय मांगा था। दुर्भाग्य है कि मिलने का समय आज तक नहीं दिया है।

पत्र भेजने के बाद उनके सहयोगियों ने 100 से अधिक बार मुख्यमंत्री कार्यालय को मिलने का समय देने के लिए फोन किया फिर भी समय नहीं मिला, बाद में फोन रिसीव करना भी बंद कर दिया गया। मुख्यमंत्री अच्छी तरह जानते हैं कि आप सरकार में मंत्रियों, अधिकारियों ने मिलकर अपने विभागों में भ्रष्टाचार करने का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। इसी कारण वह मुझसे भ्रष्टाचार पर चर्चा नहीं करना चाहते। इसलिए हमें मिलने का समय भी नहीं दिया जा रहा है। साभार: जनसत्ता


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें