श्रीनगर: अनंतनाग की इंशा मंज़ूर जो कला केंद्र कॉलेज से बैचलर ऑफ़ विज़ुअल आर्ट की स्टूडेंट हैं. अपने ग्रेजुएशन के आख़िरी साल में उन्हें रॉयल फ़ाइन कॉलेज लन्दन में प्रवेश के लिए बुलाया जा रहा है. ये लगातार दूसरा साल है जब इंशा को ये मौक़ा दिया जा रहा है. अगर इंशा एडमिशन ले लेती हैं तो वो इस कॉलेज में पढने वाली पहली एशियाई लड़की होंगी.

insha

इंशा ने कहा कि “उन्हें मेरा काम पसंद आया और इसी वजह से वो मुझे दुबारा मौक़ा दे रहे हैं. मुझे पिछली बार भी बुलाया गया था पर तब मेरे पास पैसों की परेशानी थी और मुझे स्कालरशिप नहीं मिल पायी, मुझे बताया गया कि राज्य सरकार ऐसे कोर्स के लिए कोई स्कालरशिप नहीं देती.”

इंशा जो धर्मनिरपेक्षता की बात करती हैं और चाहती हैं कि लोग धार्मिक भेदभाव से बचें. कश्मीर आब्जर्वर के अनुसार फर्स्ट लेडी श्रीमती उषा वोहरा ने इंशा मंज़ूर के काम की तारीफ़ की और एक पेंटिंग मेले के मौक़े पर उन्हें 25000 रूपये का इनाम भी दिया. ये पेंटिंग मेला इंशा मंज़ूर की पेंटिंग के बारे में था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE