news

कश्‍मीर घाटी में अख़बारों पर रोक लगाने को लेकर पुरी दुनिया में सरकार को फजीहत का सामना करना पड़ा हैं. लेकिन अब बताया जा रहा हैं कि ये फैसला मुख्यमंत्री का न होकर किसी निचले स्तर के अधिकारी का था.

इस मामलें में जब मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती को जानकारी मिली तो उन्होंने नाराज़गी जताते हुए सख़्त करवाई के निर्देश दिए। जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री के सलाहकार अमिताभ मत्तू कहना है, “ये फ़ैसला किसी ने नीचे के स्तर पर लिया था, उस पर करवाई की जाएगी.”

और पढ़े -   आज़ादी के 70 साल बाद भी जातिवाद, ऊंच-नीच, भ्रष्टाचार से आज़ादी की ज़रूरत : फैसल लाला

इसी के तहत फ़याज़ का तबादला बड़गाम के एसपी किया गया है क्योंकि कर्फ़्यू के दोरान वहां के एसपी फ़याज़ अहमद लोन ने कई अख़बारों का छपना बंद करवा दिया था। घाटी के अधिकतर अख़बार बड़गाम ज़िले से पब्लिश होते हैं। इस मामलें को लेकर मुख्यमंत्री के सलाहकार अमिताभ ने कई सम्पादकों से मिलकर माफ़ी मांगी है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE