kan

उत्तरप्रदेश के कानपुर जिले के कैंट थाना क्षेत्र में साम्प्रदायिक तनाव फ़ैलाने के लिए कुछ असामाजिक तत्वों ने मुस्लिम समुदाय की धार्मिक आस्थाओं से जुडी कुछ वस्तुओं को जला दिया. जिसके बाद इलाके के लोग भड़का उठें. लेकिन शहर काजी की सूझ-बुझ से कुछ बड़ा हादसा होने से टल गया.

शहर काजी आलम रजा नूरी ने इस दौरान लोगों को समझाते हुए कहा कि भाईयों के बीच जहर घोलने की इस साजिश को समझिए. हमें एक-दूसरे की भावनाअाें काे समझना हाेगा अाैर सम्मान करना हाेगा. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि चुनाव सिर पर है नेता हमें आपस में लड़वा सकते हैं. हमें अब नहीं लड़ना, उनके मंसूबों को कामयाब नहीं होने देना.

और पढ़े -   2000 दलितों ने दी इस्लाम अपनाने की धमकी, हिंदू देवी-देवताओं की तस्वीरों को नाले में बहाया

प्राप्त जानकारी के अनुसारकैन्ट थानाक्षेत्र स्थित गोलाघाट नये गंगा पुल के पास में कुछ लोगों ने मजार की चादर फूल कुरआन के पन्नो को जला कर कूड़े मे डाल दिया. स्थानीय निवासी बिलाल बेग के अनुसार ‘कैंट के पास हमारे धार्मिक वस्तुओं को फाड़ा गया और धार्मिक अपशब्द लिखा गया.

पुलिस नेइस मामलें में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी. साथ ही भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिया गया. इसके साथ ही इलाके में धारा 144 भी लागु कर दी गई.

और पढ़े -   एक बार फिर से जातीय हिंसा की आग में दहला सहारनपुर, गोली लगने से एक की मौत 11 घायल

 


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE