How Kanhaiya fade out the PM’s speech

पटना में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने बिहार सरकार के शराबबंदी कानून पर सवाल उठाते हुवे कहा कि बिहार में शराबबंदी करने से पहले सरकार को इसका व्यापक रूप से मूल्यांकन कर लेना चाहिए था. उन्होंने ने कहा कि शराब बंदी ठीक तो है, लेकिन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का भी ख्याल रखा जाना चाहिए.

कन्हैया ने कहा कि हमारी लड़ाई विचारधारा की लड़ाई है जिसमें निजी स्वार्थ से ज्यादा देशहित की अहमियत है. उन्होने कहा कि भारत में लोकतंत्र है और लोकतंत्र में कोई किसी पर अपनी विचारधारा नहीं थोप सकता है. उन्होने कहा कि आज भारत में भारतमाता के हाथों से तिरंगा झंडा हटाकर भगवा झंडा थमाने की कोशिश की जा रही है.

और पढ़े -   पीएम मोदी की भी नहीं सुन रहे गौरक्षक, ड्राइवर और क्लीनर की जिंदा जलाने की कोशिश

न्हैया ने कहा कि अब देश में विकल्प की राजनीति शुरू हो चुकी है ऐसे में तमाम दलों को एकजुट हो कर इस विचारधारा की लड़ाई में एक दूसरे का साथ देना चाहिए.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE