kashm1

हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद भड़की हिंसा शांत होने का नाम नहीं ले रही है. जवाहर सुरंग से लेकर एलओसी से सटे कुपवाड़ा तक हुई हिंसक झड़पों में कल तीन लोगों की मौत हो गई और 200 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं. अब तक मरने वालों का आंकड़ा 53 तक पहुंच गया है.

शुक्रवार को सुरक्षाबलों और प्रदर्शनकारियों की बीच हुई झड़प में एक युवक की मौत हुई थी. जिसकी पहचान मुहम्मद मकबूल वागाह के रुप में हुई है, वह कश्मीर के चाडूरा का रहने वाला है. युवक की छाती में बुलेट की घाव था और अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई.

अलगाववादियों ने शुक्रवार को कश्मीर में हजरतबल दरगाह चलो मार्च का एलान किया था.  प्रशासन ने हजरतबल मार्च नाकाम बनाने के लिए पूरे कश्मीर में कर्फ्यू लगा दिया था. साथ ही  सैयद अली शाह गिलानी व उदारवादी हुर्रियत प्रमुख मीरवाइज मौलवी उमर फारूक को हिरासत में ले लिया था.

गिलानी नजरबंदी भंग कर हैदरपोरा स्थित अपने निवास से और मीरवाइज मौलवी उमर फारूक नगीन स्थित मकान से बाहर अपने समर्थकों संग नारेबाजी करते हुए हजरतबल के लिए निकले। पुलिस ने दोनों को उनके घरों से कुछ ही दूरी पर रोक हिरासत में ले लिया. इसके बाद हर जगह से हिंसक झड़पों की खबरें आने लगी.

चाडूरा में पुलिस व अर्धसैनिकबलों के जवानों को फायरिंग करनी पड़ी जिसमें मुहम्मद मकबूल वागे प्रदर्शनकारी की मौत हो गई, जबकि 30 अन्य घायल हो गए इसके अलावा बीरवाह में जहूर अहमद नाम का प्रदर्शनकारी गंभीर रूप से घायल हो गया.उसे एसएमएचएस अस्पताल ले जाते समय मौत हो गई. उत्तरी कश्मीर के सोपोर में देर शाम गए तक 70 से ज्यादा प्रदर्शनकारी जख्मी हुए. वहीँ कुपवाड़ा के विभिन्न हिस्सों में हुई हिंसक झड़पों में 35 प्रदर्शनकारियों के जख्मी होने की सूचना है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें