देश भर में गौआतंकियों के आतंक के नंगे नाच के मामले सामने आ रहे है, जिसमे मुस्लिमों की जान ही ली जा रही थी. लेकिन अब गौरक्षा के नाम पर महिलाओं की इज्जत को लूटा जा रहा है. जेवर-बुलंदशहर रोड पर लूट, हत्या और महिलाओं से सामूहिक दुष्कर्म में भी कथित गौआतंकियों की भूमिका सामने आ रही है.

पीड़ित महिलाओं ने अपने बयान में बताया कि उनके साथ मुस्लिम होने की वजह से इस वारदात को अंजाम दिया गया. पहले उनके मुस्लिम होने को लेकर सवाल किया था और पूछा था कि क्या वह बीफ खाते हैं. उसके बाद आरोपियों ने ‘बीफ खाते हो’ पूछकर गोली मार दी.

और पढ़े -   दूसरी शादी के लिए धर्मपरिवर्तन को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ग़ैरक़ानूनी करार दिया

उन्होंने बताया, पीड़ितों में से एक को हमलावर कार में से घसीट कर खुले मैदान में ले गए थे. ‘उन्होंने हमसे पूछा कि क्या हम मुस्लिम हैं. हमने हां में सिर हिला दिया. उन्होंने पूछा कि क्या हम बीफ खाते हैं. हमने कहा नहीं. फिर उन्होंने हमें पकड़ लिया और कहा कि वे हमें सबक सिखाएंगे.’

वहीँ जिले के पुलिस प्रमुख लव कुमार का कहना है कि पीड़ितों ने पुलिस को बीफ से संबंधित कोई बात नहीं बताई. उन्होंने कहा, ‘उन्होंने एफआईआर दर्ज कराई, लेकिन इसका (बीफ) का जिक्र नहीं किया. मामले की जांच के लिए हम उनसे बात करेंगे.’

और पढ़े -   आखिरकार बलात्कार का आरोपी फलाहारी बाबा को पुलिस ने किया गिरफ्तार

इस पर पीड़ित पक्ष ने कहा, मानसिक स्थिति सही नहीं होने की वजह से हम समझ नहीं पा रहे थे कि क्या करें. कई स्पष्ट बातें थीं जो एफआईआर दर्ज कराते वक्त हमारे दिमाग में नहीं आईं. पीड़िता ने शुक्रवार को दिए गए बयान में कहा कि वह बदमाशों को नहीं पहचानती. उसने गुस्से में पड़ोसियों का नाम लिया था. पीड़िता ने पड़ोसियों पर लगाए आरोप भी वापस ले लिए हैं.

और पढ़े -   छेड़छाड़ का विरोध करने वाली लड़कियों पर BHU कैंपस में हुआ लाठीचार्ज

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE