जाट नेताओं ने दी 5 जून से आंदोलन की धमकी, अर्द्ध सैनिक बलों ने संभाला मोर्चा

हरियाणा में जाट आंदोलन की दुबारा आहट के बाद किसी भी उपद्रव से निपटने के लिए प्रदेश के विभिन्न शहरों में पैरामिलिट्री फोर्स की 10 कंपनियों ने रविवार को मोर्चा संभाल लिया है, वहीं सोनीपत में धारा-144 लगा, दिल्ली की लाइफलाइन कही जाने वाली पश्चिमी यमुना नहर पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। साथ ही प्रशासन के अधिकारी गांव-गांव जाकर लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह आंदोलन के दौरान हिंसा न करें।

भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की ओर से 5 जून को एक बार फिर आरक्षण आंदोलन की घोषणा की गयी हैं। समिति पदािधकारियों का कहना है कि प्रदर्शन शांतिपूर्वक होगा और उनकी ओर से सड़क और रेल मार्ग नहीं रोके जाएंगे। वहीं एसएसपी राकेश कुमार आर्य ने कहा, बीएसएफ की एक कंपनी को यहां तैनात किया जा रहा है, हालांकि पुलिस की ओर से जिले में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए तमाम प्रबंध किए गए हैं।

आपको बता दें कि जाट आरक्षण पर पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट की ओर से अंतरिम रोक लगने के बाद जाटों ने पांच जून से आंदोलन की चेतावनी दी है. गौरतलब है कि पिछली बार हुए हिंसक आंदोलन में पूरे हरियाणा में हिंसा फैल गई थी. जिसमें कई लोगों की जान चली गई और करोड़ों रुपए की संपत्ति का नुकसान हो गया था.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें