जाट नेताओं ने दी 5 जून से आंदोलन की धमकी, अर्द्ध सैनिक बलों ने संभाला मोर्चा

हरियाणा में जाट आंदोलन की दुबारा आहट के बाद किसी भी उपद्रव से निपटने के लिए प्रदेश के विभिन्न शहरों में पैरामिलिट्री फोर्स की 10 कंपनियों ने रविवार को मोर्चा संभाल लिया है, वहीं सोनीपत में धारा-144 लगा, दिल्ली की लाइफलाइन कही जाने वाली पश्चिमी यमुना नहर पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। साथ ही प्रशासन के अधिकारी गांव-गांव जाकर लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह आंदोलन के दौरान हिंसा न करें।

और पढ़े -   मोदी के मवेशी खरीद-फरोख्त बैन कानून के खिलाफ केरल में सरेआम काटी गई गाय

भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की ओर से 5 जून को एक बार फिर आरक्षण आंदोलन की घोषणा की गयी हैं। समिति पदािधकारियों का कहना है कि प्रदर्शन शांतिपूर्वक होगा और उनकी ओर से सड़क और रेल मार्ग नहीं रोके जाएंगे। वहीं एसएसपी राकेश कुमार आर्य ने कहा, बीएसएफ की एक कंपनी को यहां तैनात किया जा रहा है, हालांकि पुलिस की ओर से जिले में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए तमाम प्रबंध किए गए हैं।

और पढ़े -   कानून व्यवस्था पर बदले योगी सरकार के सुर, नहीं बना सकते उत्तर प्रदेश को अपराध मुक्त

आपको बता दें कि जाट आरक्षण पर पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट की ओर से अंतरिम रोक लगने के बाद जाटों ने पांच जून से आंदोलन की चेतावनी दी है. गौरतलब है कि पिछली बार हुए हिंसक आंदोलन में पूरे हरियाणा में हिंसा फैल गई थी. जिसमें कई लोगों की जान चली गई और करोड़ों रुपए की संपत्ति का नुकसान हो गया था.

और पढ़े -   गौआतंक से सरकारी मुलाजिम भी सुरक्षित नहीं, रेलवे ड्राईवर सहित स्टेशन मैनेजर को पिटा

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE