हैदराबाद यूनवर्सिटी में छात्र संगठनों की जॉइंट ऐक्शन कमिटी (जेएसी) ने कैंपस के हालातों के लिए कुलपति अप्पा राव को दोषी ठहराया है। जेएसी ने आरोप लगाया है कि वीसी राव के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पुलिस ने न केवल बर्बर तरीके से पीटा बल्कि लड़कियों के साथ छेड़खानी भी की।

 कन्हैया के दौरे से पहले हैदराबाद विश्वविद्यालय में सभी कक्ष...

कमिटी ने बताया कि पुलिस ने 3 प्रफेसरों और 36 स्टूडेंट्स को उठाया। पुलिस वैन में बुरी तरह से उनकी पिटाई गई। उन्हें रात भर किसी अज्ञात स्थान पर हिरासत में रखा गया। कमिटी ने आरोप लगाया कि कुलपति अुप्पा राव एबीवीपी के स्टूडेंट्स के साथ मिल साजिश रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि अप्पा राव पुलिस को स्टूडेंट्स और प्रफेसरों की लिस्ट बना कर दे रहे हैं।

14 छात्र संगठनों को मिलाकर सोशल जस्टिस के लिए बनी जेएसी ने बताया है कि कैंपस में आपतकाल जैसा माहौल बना दिया गया है। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने पानी और इंटरनेट कनेक्शन रोकने के अलावा मेस भी बंद करा दिया है। एक बयान में जेएसी ने कहा कि मंगलवार को रैपिड ऐक्शन फोर्स (आरएएफ), सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) और दूसरी सुरक्षा एजेंसियों ने महिला स्टूडेंट्स पर भी बर्बरता दिखाई।

जेएसी ने बयान में कहा, ‘महिला स्टूडेंट्स को पीटा गया। उन्हें पुलिस के पुरुष जवानों ने पकड़ा। जबरदस्ती कैंपस से निकालने के बाद भी पुलिस ने करीब 2 किलोमीटर तक दौड़ाया। छात्रों को गिरफ्तार किया। कई स्टू़डेंट्स को काफी चोट पहुंची है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।’

जेएसी के मुताबिक पुलिस की बर्बरता कि विडियो रिकॉर्डिंग कर रहे कई स्टूडेंट्स के फोन भी तोड़ दिए गए। जेएसी का कहना है कि स्टू़डेंट्स अप्पा राव के छुट्टी से लौट कर फिर से वीसी बनने का विरोध कर रहे हैं। उनका आरोप है कि कुलपति राव रोहित वेमुला सूसाइड केस में मुख्य आरोपी हैं। उन्होंने कहा कि वह (अप्पा राव) कुलपति के पद का इस्तेमाल कर जांच प्रभावित कर सकते हैं। (NBT)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें