जबलपुर। सराफा व्यापार पर एक्साइज ड्यूटी के विरोध में सराफा व्यापारियों का आंदोलन अब उग्र हो चला है। शुक्रवार की शाम 5.15 बजे अंधमूक बाईपास चौक में चक्काजाम प्रदर्शन करते सराफा व्यापारियों के लिए पुलिस की लाठियों का सामना भी करना पड़ा। पुलिस ने बल प्रयोग करके यहां से 236 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया। इनमें सराफा व्यापारी, कारीगर, टंच व्यवसाई, गलाई संघ के सदस्यों के साथ ही कांग्रेसी नेता शामिल रहे।
ट्रक-डंपरों की कतारें लगीं
सराफा व्यापारी सैकड़ों की संख्या में अंधमूक बाईपास चौक में पहुंचे और गिरफ्तारियां दी। इस बीच प्रदर्शनकारियों ने सड़क से निकलते वाहनों को रोकने उनके सामने लेटने का प्रयास भी किया। इससे एनएच-7 नागपुर-जबलपुर-कटनी व एनएच-12 जबलपुर-भोपाल सड़क में ट्रक-डंपरों की कुछ देर के लिए कतारें लगी देखीं गईं।
स्वयं के वाहन से गिरफ्तारी देने गए
सराफा एसोसिएशन के सदस्य बताते हैं कि अंधमूक चौक में एक्साइज ड्यूटी के विरोध में प्रदर्शन करते प्रदर्शनकारियों के लिए गिरफ्तार करके पुलिस ग्राउंड तक ले जाने पुलिस ने पर्याप्त वाहनों की व्यवस्था नहीं की। इससे अंधमूक चौराहे में करीब 3 सौ लोगों को गिरफ्तार किया गया। बाद में प्रदर्शनकारी स्वयं के वाहन से पुलिस ग्राउंड तक गए और गिरफ्तारी दी। पुलिस ने करीब 8 सौ प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया है।
इनका मिला समर्थन
सराफा व्यापार पर एक्साइज ड्यूटी लागू किए जाने का सराफा व्यापारी लगातार विरोध करते हुए धरना, प्रदर्शन कर रहे हैं। सराफा व्यापारियों के आंदोलन का कांग्रेसनेता व पूर्व विधायक नरेश सराफ, लखन घनघोरिया, सचिन यादव, सौरभ नाटी शर्मा, अभिषेक यादव, मुकेश राठौर, जनता दल (यू) से प्रदेश अध्यक्ष गोविंद यादव, जिला अध्यक्ष रामरतन यादव, शिवसेना से ठाणेश्वर महावर, जबलपुर थोक वस्त्र विक्रेता संघ से अनुराग जैन गढ़ावाल आदि ने समर्थन किया है। (bhopalsamachar.com)

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें