नई दिल्ली आतंकी डेविड हेडली की गवाही के बाद गुजरात आईबी के पूर्व डायरेक्टर राजेंद्र कुमार के तेवर काफी तल्ख हो गए हैं। हेडली ने अपनी गवाही में इशरत जहां को लश्कर-ए-तैयबा का आंतकी बताया है। इसके बाद राजेंद्र कुमार ने शुक्रवार को कांग्रेस नेता के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया। कुमार ने कहा, ‘कांग्रेस के एक नेता और सीबीआई के एक पूर्व अधिकारी ने मुझे फेक एनकाउंटर मामले में फंसाने की कोशिश की थी। मैं सरकार और कोर्ट के पास इन दोनों लोगों के खिलाफ अपील करूंगा।’

 इशरत केस: 'सीबीआई के आला अधिकारी कर रहे थे सरकार के दबाव मे...

हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में कुमार ने कहा, ‘जिन लोगों ने मुझे और कुछ और आईबी अधिकारियों को तथ्यों के साथ छेड़छाड़ कर फंसाने की कोशिश की थी, उनके खिलाफ मैं लगातार सबूत जुटा रहा हूं। मैं अपने कानूनी सलाहकारों के साथ संपर्क में हूं और इससे संबंधित शिकायत सरकार और कोर्ट में करूंगा।’

हेडली के बयान के बाद कुमार के तेवर काफी तल्ख हैं। उन्होंने कहा, ‘अपनी शिकायत में मैं सीबीआई अधिकारी के नाम का भी उल्लेख करूंगा। साथ ही कांग्रेस के एक नेता ने सीबीआई को उस दौरान अपने राजनीतिक मंसूबे के लिए इस्तेमाल किया था इसका भी खुलासा करूंगा। इशरत केस में कांग्रेस के नेता ने सबूतों को दरकिनार रख कुछ अधिकारियों को राजनीतिक स्वार्थ के लिए प्रयोग किया था।’

इशरत जहां एनकाउंटर के समय राजेंद्र कुमार गुजरात आईबी प्रमुख के पद पर तैनात थे। कुमार पर आरोप है कि राज्य पुलिस के साथ मिलकर उन्होंने इशरत जहां और उसके साथी जावेद शेख, अमजद अली, और जीशान जौहर को फर्जी मुठभेड़ में मार गिराया था। 15 जून 2004 को अहमदाबाद में गुजरात पुलिस की क्राइम ब्रांच की यह मुठभेड़ हुई थी। बाद में इस एनकाउंटर के फर्जी होने को लेकर जबरदस्त बवाल हुआ। (नवभारत टाइम्स)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें