hin

जयपुर की सबसे बड़ी हिंगोनिया गौशाला में पिछले कुछ सप्ताहों के दौरान बड़ी संख्या में गायों की मौत पर मचे सियासी तूफ़ान के बाद शनिवार को एक बड़ा खुलासा हुआ हैं. जिसमे भाजपा शासन के पिछले ढाई वर्षों के दौरान गोशाला में 27 हजार गायों की मौत की बात सामने आई हैं.

शनिवार को गोशाला प्रशासन से मिले यह आंकड़े देखकर मंत्री राजपाल सिंह शेखावत, मंत्री प्रभुलाल सैनी और एसीबी अधिकारी देखकर चौंक गए. जिसमे हर महीने में 900 या यूं कहें प्रतिदिन 30 गायों की मौत हुई हैं. इतनी बड़ी संख्या में गायों की मौत भूख, प्यास और बीमारी से हुई हैं.

उल्लेखनीय है कि हिंगोनिया गौशाला की देखरेख का पूरा जिम्मा नगर निगम का है. सरकार इस गौशाला के लिए हर वर्ष 15 करोड़ रूपए जारी करती है. गौशाला में गायों की देखरेख के लिए 17 पशु चिकित्सक और चालीस नर्सिंग स्टाफ भी है. बावजूद इसके इतनी बड़ी संख्या में गायों का मरना बड़ी साजिश की और इशारा करता हैं.

गौरतलब रहें कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा की गई जांच में गौशाला में गायों की मौत और दुर्दशा की वजह कुप्रबंधन और भ्रष्टाचार को बताया गया हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें
SHARE