po

राजस्थान के जयपुर शहर में एक ऐसा मामला सामने आया हैं जिसकी मिसाल बहुत मुश्किल से देखने को मिलती हैं. मोनीलेक अस्पताल में दो किडनी प्रत्यारोपण में हिंदू पुरुष ने मुस्लिम महिला को और मुस्लिम पुरुष ने हिंदू महिला को किडनी देकर उनकी जान बचाई हैं.

36 वर्षीय अनीता मेहरा को तसलीमा के पति अनवर अहमद ने तथा 42 वर्षीय तस्लीम को अनीता के पति विनोद महरा ने किडनी नई जिंदगी दी हैं.

जयपुर के जवाहर नगर स्थित मोनीलेक अस्पताल में दोनों महिलाएं खराब किडनियों के चलते डायलिसिस पर चल रही थी. डॉक्टर ने दोनों को ही किडनी ट्रांसप्लांट की सलाह दी थी, लेकिन दोनों को उनके ब्लड गु्रप का डोनर नहीं मिल रहा था.

 ऐसे में अनीता का ब्लड ग्रुप तस्लीम के पति अनवर अहमद से तथा तस्लीम का ब्लड ग्रुप अनीता के पति विनोद मेहरा से मैच कर गया फिर दोनों ने प्रत्यारोपण के लिए हाँ कह दी. ट्रांसप्लांट सर्जन डॉ. एसएल तोलानी के नेतृत्व में 8 डॉक्टरों की टीम ने ऑपरेशन कर किडनी ट्रांसप्लांट की.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें