ग्वालियर: हमेशा की तरह देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का अनादर करने वाली खिल भारतीय हिंदू महासभा ने अब राष्ट्रपिता के कातिल के महिमामंडन का ऐलान करते हुए कहा कि 15 नवंबर को नाथूराम गोडसे के मंदिर के निर्माण की आधारशिला रखी जाएगी.

ध्यान रहे 15 नवंबर को ही महात्मा गांधी की हत्या के आरोप में नाथूराम गोडसे को फांसी दी गई थी. इस सबंध में शासन को प्रस्ताव भेज कर जमीन भी मांगी गई. हालांकि शासन ने जमीन देने से इंकार कर दिया. अब महासभा का कहना है कि वह अपने ही कार्यालय में गोडसे का मंदिर बनाएगी.

महासभा की और से कहा गया कि कल भारत माता के साथ ही नाथूराम गोडसे की प्रतिमा भी स्थापित होगी. इस दौरान हिंदू महासभा ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त करार दिया.

हिंदू महासभा के इस ऐलान के बाद कांग्रेस ने आक्रामक तेवर अपना लिए है. साथ ही इस पुरे मामले के लिए बीजेपी और आरएसएस को जिम्म्मेदार बताया.

वरिष्ठ नेता कृष्णराव दीक्षित ने कहा है कि हिंदू महासभा, आरएसएस और बीजेपी का ही हिस्सा है, जो अब राष्ट्रपिता के हत्यारे का मंदिर बनाने की बात कर रही है. कांग्रेस ने साफ कहा है कि अगर मंदिर के नाम पर एक ईंट भी रखी गई तो कांग्रेस सड़कों पर उतरकर पुरजोर तरीके से विरोध दर्ज कराएगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE