आजमगढ़ का यह हिन्दू परिवार रातों को जागकर मुस्लिम पड़ोसियों को रोज़े रखने में करता है मदद

उत्तरप्रदेश का आजमगढ़ जो लगातार दंगो की आग में झुलस रहा हैं. ऐसे में ये खबर इन दंगो की आग पर पानी का काम कर रही हैं. आजमगढ़ के मुबारकपुर में हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे की मिसाल देखने को मिल रही हैं. रमजान के इस पाक महीने में एक हिन्दू परिवार अपनी रातों की नींदे ख़राब कर अपने पडोसी मुस्लिम भाइयों को रोजा रखने के लिए जगाता हैं.

और पढ़े -   कर्नाटक - बीजेपी नेता येदियुरप्पा ने दलित के घर होटल से मंगाकर खाया खाना

रात के करीब 1 बजे से 45 वर्षीय गुलाब यादव और उनका 12 वर्षीय बेटा अभिषेक घर से निकल कर गांव के सभी मुस्लिम घरों पर दस्तक देते हैं और उन लोगों के नींद से जग जाने तक वहां से हटते नहीं. गुलाब यादव पेशे से दिहाड़ी मजदूर हैं, जो कि ज्यादातर समय दिल्ली में रहते हैं, लेकिन रमजान आने पर वह पूर्वी यूपी के आजमगढ़ स्थित अपने गांव लौट आते हैं.

और पढ़े -   सहारनपुर - योगी राज में अत्याचार को लेकर 180 दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म

गुलाब यादव के अनुसार वह 45 साल पुरानी परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं. 1975 में उनके पिता चिर्कित यादव ने इस परंपरा की शुरुआत की थी. गुलाम यादव आगे कहते हैं ‘मुझे लगता है कि इससे शांति मिलती है। मेरे पिता के बाद, मेरे बड़े भाई ने कुछ वर्षों तक यह काम किया, उनके बाद मैंने यह जिम्मा उठाया और अब मैं हर रमजान यहां लौट आता हूं’

और पढ़े -   कोलकाता: मौलाना बरकाती को इमामत से हटाया गया, बरकाती बोले - ट्रस्ट में भी घुस गए है संघी

गुलाब के पड़ोसी शफीक के अनुसार गुलाम यादव पूरे गांव का चक्कर लगाते हैं, इसमें डेढ़ घंटे का वक्त लगता है. इसके बाद वह एक बार फिर पूरे गांव में घूमते है.। वह यह पक्का करते हैं कि कोई भी सेहरी करने से ना चूके. इससे ज्यादा पवित्र चीज़ और क्या हो सकती है.’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE