nitish kumar_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0_0

पटना हाईकोर्ट ने मुख्य्मंर्त्री नीतीश कुमार को झटका देते हुए उनके शराबबंदी कानून को ‘गैरकानूनी’ बताते हुए रद्द कर दिया हैं.

शराबबंदी के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने इस कानून के कई प्रावधान पर ऐतराज जताया. जिसमे शराब मिलने पर पूरे परिवार को जेल भेजने जैसे कानून भी शामिल थे. बिहार को शराब मुक्त बनाना नितीश कुमार का सपना रहा हैं और इसी कानून के सहारे वह पूरे देश में  शराबबंदी स्वीकार्यता बढ़ाने की मुहिम चला रहे थे.

और पढ़े -   दलित ने संभाली राष्ट्रपति की कुर्सी, फिर भी 300 दलित परिवार भूख हड़ताल पर बैठने को मजबूर

हालाँकि इस मामले में पहले भी हाईकोर्ट ने  राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा था कि सरकार शराबबंदी को लागू कराने के लिए स्टंटबाजी बंद करे. राज्य सरकार की ओर से एडवोकेट जनरल ने जवाब में कहा था कि सरकार पूर्ण शराबबंदी लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए उसको जनमत भी मिला है.

नितीश सरकार ने शराबबंदी की वजह से अपराध में कमी आने का भी दावा किया था. पुलिस की ओर से इस साल अप्रैल में जारी आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू करने की वजह से अपराध दर में 27 प्रतिशत की कमी आई थी.

और पढ़े -   पीएम मोदी की भी नहीं सुन रहे गौरक्षक, ड्राइवर और क्लीनर की जिंदा जलाने की कोशिश

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE