गोरखपुर दंगे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ सीबीआइ जांच की मांग में दाखिल याचिका की इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई जारी है.

गोरखपुर निवासी परवेज परवाज और असद हयात द्वारा दायर की गई पर न्यायमूर्ति कृष्ण मुरारी और न्यायमूर्ति अखिलेश चंद्र शर्मा की खंडपीठ ने इस मामले में अगली सुनवाई की तारीख 31 जुलाई तय की है. याचिकाकर्ताओं की ओर से वकील एस.एफ.ए. नकवी ने कहा, ‘इस याचिका की विचारणीयता के संबंध में शुक्रवार को इस अदालत के समक्ष कुछ प्रारंभिक आपत्तियां उठाई गईं. हम इन पर सोमवार को सुनवाई दोबारा शुरू होने पर जवाब देंगे.’

और पढ़े -   कश्मीर: शहीद उमर फयाज के सम्मान में बदला गया स्कूल का नाम

गोरखपुर में 2007 में 26 व 27 जनवरी की रात में मोहर्रम जुलुस के दौरान साम्प्रदायिक तनाव हो गया था. याचिकाकर्ता के अनुसार, महाराणा प्रताप चौराहा पर बीजेपी के बड़े नेताओं की अगुवाई में सभा हुई. जिसमे भड़काऊ भाषण दिए गए. भाषण देने वालों में तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ भी थे. उनके भाषण के बाद ही दंगा भड़क गया. इस दंगे में राशिद नाम के एक युवक की भी जान चली गई थी.

और पढ़े -   राष्ट्रगान ना गाने पर योगी सरकार करेगी मदरसों पर एनएसए के तहत कार्रवाई

राशिद की मौत के बाद वादी बने परवेज परवाज ने केस दर्ज कराया लेकिन पुलिस द्वारा मामला दर्ज न करने के बाद उन्होंने अदालत का रुख किया. अदालत के आदेश पर  योगी आदित्यनाथ के खिलाफ भड़काऊ भाषण देने व उन्माद फैलाने की धाराओं सहित 302, 153ए, 153बी, 295, 295बी, 147, 143, 427, 452 के तहत कैण्ट थाना में मुकदमा दर्ज किया गया.

और पढ़े -   देहरादून: मिशन 2019 से पहले बीजेपी को बड़ा झटका, छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी का सूपड़ा साफ

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE